राम नगरी उत्तर प्रदेश से बेहद रोतक मामला सामने आया है। जिससे यकीन किया जा सकता है कि भगवान जो करता है सही करता है और आज भी वह धरती पर मौजूद हैं। जी हां यूपी के चित्रकूट के बाला जी मंदिर से लाखों की मूर्तियों को एक चोर ने चोरी कर ली और कुछ ही दिनों बाद खुद ही उन मूर्तियों को मंदिर में वापस से लौटा गया और चिट्ठी लिख कर कहा कि, 'मैं डरावने सपनों से परेशान हो गया हूं'।
चोरी हुई मूर्तियां एक चिट्ठी के साथ मानिकपुर कस्बे में महावीर नगर वार्ड स्थित महंत के घर के बाहर मिली हैं। इसके बाद महंत ने मूर्तियां पुलिस को सौंप दी हैं। फिलहाल अष्ट धातु की कीमती मूर्तियां अब भी पहुंच से दूर हैं। पीड़ित महंत रामबालक दास ने बताया कि “अगर जल्द इस घटना का खुलासा नहीं हुआ तो वह बड़ा आंदोलन करेंगे”।

यह भी पढ़ें- 16वां गवर्नर्स Taekwondo Cup: UTA रही चैंपियन, PTA ने जीता उपविजेता खिताब

बता दें कि शहर कोतवाली क्षेत्र के तरौहां में बने सैकड़ों साल पुराने बालाजी मंदिर से बीते 9 मई को अष्ट धातु, पीतल और तांबे की 16 मूर्तियां चोरी हुई थीं। मंदिर के महंत राम बालक दास ने बताया कि मंदिर का ताला तोड़कर चोरों ने अष्टधातु से बनी 5 किलो की श्रीराम की मूर्ति, पीतल की राधाकृष्ण की मूर्ति, बालाजी की मूर्ति और लड्डू गोपाल की मूर्ति समेत नकदी और चांदी का सामान चोरी कर लिया। पुजारी की पत्नी सुबह मंदिर में सफाई करने के लिए पहुंची तो मंदिर का ताला टूटा और मंदिर में रखी मूर्तियां गायब देखीं।

यह भी पढ़ें- मणिपुर में ILP प्रणाली दांत रहित बाघ की तरहः JCILPS संयोजक फुलिंद्रो कोन्सम

इस घटना से मंदिर परिसर में हड़कंप मच गया। सूचना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने मामले की छानबीन शुरू कर दी थी। पीड़ित महंत ने कर्वी कोतवाली में तहरीर देकर चोरों को गिरफ्तार कर उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग की थी। मंदिर प्रशासन के लोगों कहना था कि मंदिर परिसर के आस-पास अराजक लोगों ने शराब और जुए के अड्डे बना रखे हैं। उन्होंने ही मंदिर में चोरी की घटना का अंजाम दिया है।


अष्ट धातु की थी दो मूर्तियां
मानिकपुर स्थित उनके ही घर के बाहर मूर्ति मिलने के बाद महंत राम बालक दास ने बताया कि सुबह जब वो गोवंशों को चारा-पानी देने निकले तो उन्हें एक चिट्ठी पड़ी मिली। उसमें मूर्तियों के जिक्र के साथ लिखा था कि मूर्ति चोरी करने के बाद उन्हें नींद नहीं आ रही और डरावने सपने आ रहे हैं। इसलिए मूर्तियां वापस कर रहे हैं और मूर्तियों को आप दोबारा मंदिर में स्थापित करवा दें।

चिट्ठी पढ़ने के बाद महंत ने मूर्तियों की खोज की तो मूर्तियां घर के बाहर टोकरी के नीचे रखी बोरी के अंदर मिलीं। उन्हें पीतल व तांबे की 12 मूर्तियां बरामद हुईं लेकिन अष्ट धातु की दो मूर्तियां नहीं मिली। इसकी सूचना उन्होंने कोतवाली पुलिस को दी और पुलिस मुख्यालय पहुंचकर मूर्तियां पुलिस को सौंप दी है।