WhatsApp यूजर्स की सिक्योरिटी और प्राइवेसी को लेकर बड़ा खतरा सामने आया है। दरअसल, WhatsApp में एक बड़ी खामी है, जिससे किसी भी यूजर की चैट को साइबर क्रिमिनल्स आसानी से पढ़ सकते हैं। यह सच है कि वॉट्सऐप की चैट एंड-टू-एंड एनक्रिप्टेड होती हैं, लेकिन iCloud या Google Drive पर बैकअप स्टोर होने के बाद इसे पूरी तरह सेफ नहीं माना जा सकता।

आमतौर पर क्लाउड पर सेव चैट्स को किसी क्राइम की जांच करने के लिए जांच एंजेंसियां सर्च वॉरंट के साथ ऐक्सेस करती हैं। ऐसे में यह माना जा सकता है कि iCloud या गूगल ड्राइव पर सेव वॉट्सऐप चैट को हैकर्स भी आसानी से ऐक्सेस कर सकते हैं।

ऐपल और गूगल ने अपने यूजर्स की सेफ्टी के लिए जरूरी इंतजाम किए हैं और इनसे यूजर्स की चैट काफी हद तक सेफ हैं, लेकिन इसे पूरी तरह के हैकिंग प्रूफ नहीं कहा जा सकता। वॉट्सऐप इस मामले की गंभीरता को समझ रहा है। WABetaInfo की एक रिपोर्ट के अनुसार वॉट्सऐप आजकल एक ऐसे फीचर पर काम कर रहा है, जिससे चैट्स क्लाउड पर सेव होने से पहले ही एन्क्रिप्ट हो जाएं।

WABetaInfo के अनुसार वॉट्सऐप के इस नए फीचर का नाम एंड-टू-एंड एन्क्रिप्टेड बैकअप्स है। कंपनी इसे ऐंड्रॉयड बीटा वर्जन 2.21.15.5  के साथ रोलआउट कर रही है। वॉट्सऐप के जिन बीटा यूजर्स तक यह अपडेट पहुंच चुका है, उन्हें अपनी चैट और मीडिया को एन्क्रिप्शन के साथ बैकअप कर सकते हैं।

वॉट्सऐप चैट और मीडिया को एनक्रिप्ट करने के लिए आपको एक पासवर्ड सेट करना होगा। इस पासवर्ड की जरूरत चैट्स के बैकअप को रीस्टोर करने के लिए पड़ेगी। इसके बिना आप अपनी चैट हिस्ट्री को रीस्टोर नहीं कर पाएंगे। यह पासवर्ड प्राइवेट होता है और इसे वॉट्सऐप, गूगल, फेसबुक या ऐपल के साथ शेयर नहीं किया जाता।