मिजोरम की 40 सदस्यीय विधानसभा के लिए बुधवार को हुये चुनाव में मतदान का प्रतिशत 73 से बढक़र 80.15 फीसदी हो गया है। कई जगह से मतदान आंकड़ों के बारे में देर से जानकारी मिलने के बाद इसके प्रतिशत में इजाफा हुआ है। नवंबर 2013 में राज्य विधानसभा चुनावों में 81 प्रतिशत मतदान हुआ था।  मुख्य चुनाव अधिकारी ने आशीष कुंद्रा ने कहा कि डाक से मिले मतों और सुरक्षा बलों के कर्मियों द्वारा डाले गये मतों में मतदान प्रतिशत में शामिल नहीं किया जा सका है। ये वोट, मतों की गिनती से दो दिन पहले 9 दिसंबर तक प्राप्त होंगे। उन्होंने कहा कि ईवीएम और गणना करने वाले दल केंद्रों तक पहुंच चुके हैं। राज्य भर में 7.7 लाख मतदाताओं ने 1,164 मतदान केंद्रों पर बुधवार को मतदान किया था।



असम में रेल कोच में धमाका, 11 लोग घायल
असम में रेल कोच में धमाके की खबर सामने आई है। प्राप्त जानकारी के मुताबिक कामाख्या-डेकारगांव एक्सप्रेस के एक कोच में धमाका हुआ। उदलगुड़ी में हुए इस धमाके में फिलहाल 11 यात्रियों के घायल होने की बात सामने आई है।कामाख्या-डेकारगांव इंटरसिटी एक्सप्रेस के कोच में हुए धमाके के बाद अफरा-तफरी मच गई। घायलों को इलाज के लिए ले जाया गया है। रेलवे और पुलिस सूत्रों ने यह जानकारी दी। पूर्वोत्तर फ्रंटियर रेलवे के प्रवक्ता ने बताया कि हरिसिंगा रेलवे स्टेशन पर कामाख्या-डेकारगांव इंटरसिटी एक्सप्रेस की एक बोगी में धमाका हुआ। उत्तर पूर्व रेलवे के प्रवक्ता नृपन भट्टाचार्य ने कहा कि अब तक यह पक्का नहीं हो सका है कि धमाका कोई बम ब्लास्ट था या फिर शॉर्ट सर्किट के कारण हुआ।

45 वर्षीय स्वपन देबबर्मा नौकरी देगी त्रिपुरा सरकार 
त्रिपुरा की भाजपा-आईपीएफटी सरकार ने 45 वर्षीय स्वपन देबबर्मा को नौकरी देने का फैसला किया। स्वपन देबबर्मा को यह इनाम उनकी उस जांबाजी के लिए दिया गया है, जब वे एक तेज रफ्तार ट्रेन को रोकने के लिए इसके आगे कूद गए थे। कानून मंत्री रतन लाल नाथ ने प्रदेश सचिवालय में पत्रकारों से बातचीत में कहा कैबिनेट बैठक में स्वपन देबबर्मा को ग्रुप डी एम्प्लॉयी के रूप में नियुक्त करने का फैसला किया गया। उन्होंने कहा कि एक भयानक आपदा को बचाने के लिए जांबाज स्वपन देबबर्मा की बेटी भी उनके साथ तेज रफ्तार ट्रेन को रोकने के लिए उसके आगे कूद गई थी। हमारी सरकार उनकी बेटी की शिक्षा का पूरा खर्च उठाएगी।

राज्यपाल बीडी मिश्रा ने गर्भवती महिला अपने हेलीकॉप्टर से पहुंचाया अस्पताल
अरुणाचल प्रदेश के राज्यपाल बीडी मिश्रा एक गर्भवती महिला को अपने हेलीकॉप्टर से तवांग से ईटानगर लेकर आए ताकि उसे वक्त पर डॉक्टरी सहायता उपलब्ध हो सके। राजभवन के सूत्रों ने बताया कि तवांग में बुधवार को आधिकारिक कार्यक्रम के दौरान राज्यपाल ने मुख्यमंत्री पेमा खांडू और स्थानीय विधायक के बीच बातचीत सुनी। विधायक खांडू को बता रहे थे कि एक गर्भवती महिला की हालत नाजुक है, लेकिन तवांग और गुवाहाटी के बीच अगले तीन दिनों तक कोई हेलीकॉप्टर सेवा नहीं है। इतना सुनते ही राज्यपाल मिश्रा ने कहा कि वह अपने हेलीकॉप्टर से महिला और उसके पति को साथ ले जाएंगे। दंपति के लिए हेलीकॉप्टर में जगह बनाने की खातिर राज्यपाल ने अपने दो अधिकारियों को तवांग में ही छोडऩे का फैसला लिया।

700 सैन्य अधिकारियों की आेर से दायर याचिका को SC  ने किया खारिज

मणिपुर एवं जम्मू व कश्मीर जैसे अशांत क्षेत्रों में ऑपरेशन को अंजाम देने वाले सैन्य अधिकारियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के खिलाफ  दायर याचिका सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दी है। बता दें कि करीब 700 सैन्य अधिकारियों की ओर से यह याचिका दायर की थी। मालूम हो कि मणिपुर एवं जम्मू व कश्मीर जैसे अशांत क्षेत्रों में आम्र्ड फोर्स स्पेशल पावर एक्ट लागू है। न्यायमर्ति मदन बी लोकुर और न्यायमूर्ति यूयू ललित की पीठ ने सैन्य अधिकारियों द्वारा इस याचिका को खारिज कर दिया। केंद्र सरकार ने भी सैन्य अधिकारियों की याचिका का समर्थन किया था। सरकार की ओर से पेश सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा कि इसे लेकर कोई क्रियाविधि होनी चाहिए, जिससे कि आतंकवाद से लड़ते वक्त हमारे सैन्य अधिकारियों विचलित न हो।

सेना के अधिकारियों की अपील, वापस करें जीवित मोर्टार गोले
अरुणाचल प्रदेश में विस्फोट के बाद सेना के अधिकारियों ने इस क्षेत्र में रहने वाले लोगों से अपील की है कि पास बने फायरिंग रेंज से उन्होंने जो जीवित मोर्टार के गोले जमा किए हैं, उसे वापस कर दें। बता दें, अरुणाचल प्रदेश में एक जीवित बम से खेलते हुए विस्फोट में तीन बच्चों की मौत हो गई थी। जानकारी देते हुए रक्षा प्रवक्ता कर्नल चिरंजीत कुंवर ने बताया कि जिले के प्रशासनिक अधिकारियों के साथ सैनिक स्थानीय लोगों के घर जा रहे हैं और उनसे मोर्टार लौटाने का आग्रह कर रहे हैं। लोगों ने अब तक इस पहल पर सकारात्मक रूख दिखाते हुए गोले वापस किए हैं। कुंवर ने कहा कि पिछले दो दिनों से ग्रामीण लोगों ने 554 गोले जमा किए हैं, जिसे सेना ने नारा टाइडिंग फायरिंग रेंज में नष्ट किया।

मिजोरम में भारत के सबसे ज्यादा एचआईवी संक्रमण से ग्रस्त लोग

मिजोरम राज्य एड्स नियंत्रण सोसाइटी के मुताबिक राज्य में अक्टूबर 1990 से इस साल अगस्त तक कम से कम 18,081 लोग एचआईवी संक्रमण से ग्रस्त पाए गए हैं। यह संख्या 11 लाख की आबादी वाले राज्य का 1.6 फीसदी है। पिछले साल 16 नवंबर को मिजोरम विधानसभा को सूचित किया गया था कि राज्य में 14,632 एचआईवी ग्रस्त लोगों की पहचान की गई है। इंडियन एचआईवी एस्टिमेशन्स 2017 टेक्निकल रिपोर्ट के मुताबिक मिजोरम एचआईवी संक्रमण के मामले में देश में पहले स्थान पर है। इनमें से 66 फीसदी एचआईवी संक्रमण के मामले असुरक्षित यौन संबंधों की वजह से हैं।इसके बाद इंजेक्शन की सुई के दोबारा इस्तेमाल की वजह से संक्रमण के मामले हैं, जबकि करीब एक फीसदी मामले समलैंगिकता के कारण सामने आए हैं।

भाजपा सहयोगी ने की त्रिपुरालैंड की मांग
इंडिजिनयस पीपुल्स फ्रंट ऑफ  त्रिपुरा ने आदिवासियों के लिए अलग राज्य त्रिपरालैंड गठित करने की मांग की है। इस मांग के लिए पार्टी के जरिए दिल्ली में रैली भी की जाएगी। बता दें कि इंडिजिनयस पीपुल्स फ्रंट ऑफ  त्रिपुरा  भारतीय जनता पार्टी की त्रिपुरा में सहयोगी पार्टी है। पार्टी का कहना है कि वह आदिवासियों के लिए अलग राज्य बनाने के लिए दबाव बनाना चाहती है। साथ ही उनकी मांग प्रस्तावित नागरिकता संशोधन विधेयक 2016 को निरस्त करने की भी है। पार्टी का कहना है कि त्रिपरालैंड गठित करने और प्रस्तावित नागरिकता संशोधन विधेयक 2016 को निरस्त करने की मांग पर दबाव बनाने के लिए दिल्ली में रैली करेगी।

अमेरिका की राह पर चला भारत

देश भर में सभी तरह की आपात सेवाओं के लिए मोबाइल ऐप 112 इंडिया के शुभारंभ की यहां घोषणा करते हुए केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि इसमें महिलाओं के पुलिस और स्वयंसेवियों से त्वरित सहायता पाने के लिए एक खास फीचर मौजूद हैं। राजनाथ सिंह ने कहा कि इस ऐप में खासतौर पर महिलाओं के लिए शाउट फीचर उपलब्ध किया गया है जो आपात प्रतिक्रिया सहायता प्रणाली से जुड़ा हुआ है। उन्होंने कहा कि यह ऐप किसी परेशान महिला की मौजूदगी की जगह का पता लगाने के लिए जीपीएस का इस्तेमाल करेगा। राजनाथ सिंह ने कहा कि इस मोबाइल ऐप का इस्तेमाल कर राज्य के लोगों को पुलिसए स्वास्थ्यए दमकल एवं अन्य एजेंसियों से तुरंत सहायता मिलेगी। ईआरएसएस में पुलिस, दमकल, स्वास्थ्य, और महिला हेल्पलाइनों को मिला दिया गया है।

मणिपुर सरकार की आलाेचना करने वाले पत्रकार को किया गया गिरफ्तार

मणिपुर सरकार की आलोचना करते वीडियो अपलोड करने के चलते पत्रकार किशोरचंद्र वांगखेम को राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत गिरफ्तार किया गया है। आरोप यह भी है कि उन्होंने मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह के लिए कथित अपमानजनक शब्द भी कहे।  27 नवंबर को किशोर को रासुका के तहत गिरफ्तार कर जेल भेजा गया था। इसके बाद अगले दिन उन्हें पश्चिम इम्फाल के सीजेएम कोर्ट से जमानत मिल गयी थी। उस समय अदालत ने कहा था कि किशोर की टिप्पणियां देश के प्रधानमंत्री और मणिपुर के मुख्यमंत्री के खिलाफ  उनकी अभिव्यक्ति थी और इसे राजद्रोह नहीं कहा जा सकता। किशोर की पत्नी ने बताया कि किशोर को पहली बार 20 नवंबर को गिरफ्तार किया गया था। इसके बाद 27 नवंबर को उन्हें पुलिस स्टेशन बुलाया गया।