पंजाब में आम आदमी पार्टी (आप) के नेता भगवंत मान ने राज्य के 25वें मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ले ली। पंजाब के राज्यपाल बीएल पुरोहित ने भगवंत मान को मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाई। इसके साथ ही गूगल पर उनके बारे में लोग अजीबो-गरीब चीजें सर्च कर रहे हैं। जिसके बारे में आप जानकर दंग रह जाएंगे। 

यह भी पढ़ें- इंडियन आर्मी को मिली बड़ी कामयाबी, इस आतंकवादी संगठन को दिया तगड़ा झटका, जानिए कैसे

बता दें कि जब से आम आदमी पार्टी ने पंजाब में ऐतिहासिक जीत हासिल की है, दुनिया भर में रहने वाले भारतीय मान के बारे में अलग-अलग तरह से गूगल पर सर्च कर रहे हैं। गौर हो कि राज्य में आप ने ऐतिहासिक जीत हासिल की है। राज्य में पार्टी को विधानसभा की 117 सीटों में से 92 सीटें हासिल हुई हैं। वहीं कांग्रेस को 18 सीटें हासिल हुई है। जबकि बीजेपी को दो, अकाली दल को तीन, बसपा को एक और एक निर्दलीय उम्मीदवार को जीत हासिल हुई है।

गूगल पर भगवंत मान की जीत, जाती, शिक्षा, उनके परिवार, उनके गांव इसत्यादि के अलावा भगवंत मान ड्रंक वीडियो, भगवंत मान कॉमेडी वीडियो को खूब सर्च किया जा रहा हैं। 

यह भी पढ़ें- ग्लोबल वार्मिंग में सिक्किम का योगदान भारत मे सबसे अधिक, आईपीसीसी की रिपोर्ट ने मचाई खलबली

दरअसल, पंजाब के नए मुख्यमंत्री भगवंत मान का नाम विवादों से भी जुड़ा रहा है। जैसे ही उन्हें आम आदमी पार्टी की तरफ से मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित किया था, वैसे ही सोशल मीडिया पर उनके कई वीडियो शेयर हुए थे। जिसमें वे लड़खड़ाते हुए नजर आ रहे थे। एक इंटरव्यू में उन्होंने बताया था कि वह अब शराब पीना छोड़ चुके हैं। 

बता दें कि भगवंत मान एक प्रसिद्ध पंजाबी कॉमेडियन भी रहे हैं। उन्होंने मशहूर कॉमेडियन कपिल शर्मा के साथ द ग्रेट इंडियन लाफ्टर चैलेंज नाम के टीवी शो में भी भाग लिया था। इसके कई वीडियो यूट्यूब पर मौजूद हैं। पंजाब में आप की जीत के बाद भगवंत मान ने कॉमेडी वीडियो भी लोग खूब सर्च कर रहे हैं।

मान ने राजनीतिक सफर की शुरुआत मनप्रीत सिंह बादल की पंजाब पीपुल्स पार्टी से की। मनप्रीत बादल पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल के भतीजे हैं। मार्च 2011 में वे इस पार्टी में शामिल हुए। साल 2012 में लहरा विधानसभा सीट से भगवंत मान चुनाव लड़े। लेकिन जीत नहीं पाए। इसके बाद मान ने अपना रास्ता बदल लिया और मार्च 2014 को आम आदमी पार्टी में आ गए। केजरीवाल ने उन्हें संगरूर लोकसभा सीट से चुनाव लड़ाया और वह जीत भी गए। इस जीत के साथ वो पहली बार जनप्रतिनिधि बने।