कंगाल पाकिस्तान आर्थिक संकटों से जूझ रहा है। गेहूं के संकट ने भूखमरी की ओर इशारा किया है। इस बीच नए प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ ने चौंका देने वाला बयान दिया है, जिसमें उन्होंने कहा है कि "कपड़ें बेच दूंगा लेकिन गेहूं महंगा नहीं करूंगा"। जानकारी दे दें कि पाकिस्तान को सऊदी अरब से 8 बिलियन डॉलर का कर्जा मिला है लेकिन फिर भी पाकिस्तान के आर्थिक हालात ठीक होते नहीं दिख रहे हैं।

यह भी पढ़ें- सांसद प्रो. राकेश सिन्हा ने सेंग खासी संस्थानों के प्रति सरकार की 'उदासीनता' से कराया अवगत


हाल ही में पाकिस्तान बेरोजगारी और महंगाई से भी जूझ रहा है। पाक में जरूरी चीजों का उत्पादन भी घट रहा है। इसी कड़ी में एक चौंकाने वाला आंकड़ा निकलकर आया है, जो इस देश में महंगाई को और बढ़ा सकता है। दरअसल, पाकिस्तान में इस साल गेहूं का उत्पादन करीब 30 लाख टन कम होने का अनुमान लगाया जा रहा है। अगर ऐसा होता है तो गेहूं की कीमत में काफी वृद्धि होगी।


खैबर पख्तूनख्वा के शांगला जिले की बिशम तहसील में PML-N की जनसभा में प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ ने कहा कि वह गेहूं के कम उत्पादन के मुद्दे पर नजर बनाए हुए हैं। वह किसी भी कीमत पर आटा महंगा नहीं होने देंगे, भले ही इसके लिए उन्हें अपना कपड़ा तक क्यों न बेचना पड़ जाए। उन्होंने लोगों से कहा कि, वह जानते हैं कि आटे की कीमतों को कैसे कम किया जाए।


यह भी पढ़ें- 2023 चुनाव की तैयारियों जुटी पार्टियां, UDP में 7 विधायक शामिल होने की संभावना


उन्होंने प्रांतीय सरकार को अपने खर्च पर कीमतें कम करने के निर्देश दिए। बता दें कि पाकिस्तान के पीएमओ की ओर से एक आंकड़ा पिछले दिनों जारी किया गया। जिसमें कहा गया कि देश में इस बार 26.173 मिलियन टन गेहूं का उत्पादन होगा, जबकि लक्ष्य 28.89 मिलियन टन रखा गया था। इन सबसे अलग गेहूं की खपत 30.79 मिलियन टन तक होने का अनुमान लगाया गया है।