केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने सोमवार को कहा कि अगर राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) लागू किया तो गोरखा समुदाय का एक भी व्यक्ति उससे प्रभावित नहीं होगा। शाह ने यहां एक जन सभा को संबोधित करते हुए कहा, ऐसी अफवाहें फैलायी जा रही हैं कि यदि एनआरसी लागू किया गया तो गोरखा लोगों को देश से बाहर कर दिया जायेगा। 

उन्होंने कहा कि एनआरसी अभी लागू नहीं किया गया है लेकिन यदि यह लागू किया गया तो एक भी गोरखा बाहर नहीं भेजा जायेगा। तृणमूल कांग्रेस झूठ बोल रही है। शाह ने वादा किया कि अगर बंगाल में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सत्ता में आयी तो गोरखा लोगों की हत्या करने वालों को जेल भेजा जायेगा। 

उन्होंने कहा कि कालिम्पोंग वर्षों से तकलीफें झेलता रहा है। उन्होंने कहा कि वर्ष 1986 में माक्र्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी ने गोरखा लोगों के साथ अत्याचार किया और 1200 लोगों की जान गयीं। गोरखा लोगों को न्याय नहीं दिलाया गया। ममता बनर्जी जब मुख्यमंत्री बनीं तो उन्होंने भी गोरखाओं के लिए कुछ नहीं किया और उन्हें न्याय नहीं मिला। शाह ने कहा कि इस बार भाजपा को वोट दीजिए और हम विशेष टॉस्क फोर्स का गठन करके गोरखा लोगों की हत्या के आरोपियों को जेल भेजेंगे। केन्द्रीय गृह मंत्री ने इससे पहले यहां एक रोडशो किया। यहां पांचवें चरण में चुनाव होगा।