पश्चिम बंगाल के कूच बिहार जिले में चौथे चरण के चुनाव के दौरान हुई हिंसा में पांच लोगों की मौत हो गई है। पश्चिम बंगाल में विधानसभा के चौथे चरण के मतदान के दौरान कूच बिहार जिले में माथाभंगा निर्वाचन क्षेत्र के जोरेपाटकी में सुरक्षा बलों द्वारा आत्मरक्षा के लिए चलाई गई गोली में हमीदुल हक, हमीनुल हक, मनीरुल हक और नूर आलम की मौत हो गयी। 

निर्वाचन आयोग ने हिंसा की विस्तृत रिपोर्ट मांगी है। बताया गया कि उपद्रवियों ने क्यूआरटी के वाहन को नुकसान पहुंचाया, जिसके बाद सुरक्षाकर्मियों द्वारा कई राउंड फायर किए गए, जिसमें 4 लोगों की जान चली गई। वहीं TMC ने दावा किया है कि बूथ नंबर 5/126 पर हुई इस घटना में हमीदुल हक, मनीरूल हकम समीयुल हक और अजमद हुसैन की मौत हुई है। इस बीच चुनाव आयोग घटना को लेकर डीईओ कूचबिहार से एक घंटे के भीतर रिपोर्ट मांगी है। उधर पश्चिम बंगाल के एडिशनल डायरेक्टर जनरल जगमोहन ने फोन पर बताया कि 4 लोगों के मरने की पुष्टि हुई है। सीआईएसफ के जवानों ने गोली चलाई है। गोली तब चलाई गई जब उनपर ग्रामीणों ने हमला कर दिया था।

इससे पहले दिन की शुरूआत में सीतलकुची के पागलापीर मतदान केन्द्र में पहली बार मतदान करने आये आनंद बर्मन की कुछ अज्ञात बदमाशों ने गोली मार हत्या कर दी, जो कि मतदान के लिए लाईन में खड़ा हुआ था। तृणमूल नेता डोला सैन ने मौतों के लिए आयोग को जिम्मेदार ठहराया है। सेन ने कहा कि चुनाव आयोग राज्य प्रशासन को चला रहा है। वहीं भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेता निशित प्रमाणिक ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर केंद्रीय बलों के खिलाफ भड़काऊ बयान देने का आरोप लगाया है।