पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव पर भाजपा बहुत ज्यादा फोकस कर रही है क्योंकि बीजेपी के लिए बंगाल में जीत बहुत अहम है। ममता बनर्जी को हराकर भाजपा चुनाव जीतने के लिए कई तरह की तैयारियां कर रही है। भाजपा शाम दाम दण्ड भेद की नीति अपना कर ममता के किले को गिराने में लगी हुई है। हाल ही में पुरुलिया जिले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली होने वाली है। लेकिन बंगाल के नेताओं और कार्यकर्ताओं में चुनाव से पहले अंशाति फैली हुई है।

भाजपा के खेमे में अंदरूनी कलेश चल रहा है। इसी कलेश को खत्म करने के लिए दिल्ली में कोर ग्रुप की बैठक सुबह 4 बजे तक चली है। नई दिल्ली स्थित बीजेपी मुख्यालय में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने पार्टी की बंगाल यूनिट के कोर ग्रुप के साथ चुनाव के कई मुद्दों पर चर्चा की है। जिसमें सबसे बड़ा मुद्दा टिकट बंटवारे पर पार्टी में टकराव को लेकर हैं।


टिकट बंटवारे को लेकर भापजा में घमासान हो रहा है। बीजेपी कार्यकर्ताओं ने अपने ही नेताओं को निशाना बनाकर पत्थरबाजी की थी। टिकट बंटवारे को लेकर कई सीटों पर नेताओं-कार्यकर्ताओं का गुस्सा फूट रहा है। कार्यकर्ताओं ने बीजेपी के बड़े नेता मुकुल रॉय और अर्जुन सिंह के साथ धक्कामुक्की भी की थी। दूसरा जो बड़ा मुद्दा है वो यह है कि बीजेपी का घोषणा पत्र, जो कि अहम हैं। टीएमसी ने अपना चुनावी घोषणा पत्र जारी कर दिया है।

टीएमसी सुप्रिमो ममता बनर्जी ने बहुत ही शानदार घोषणापत्र जारी किया और अब बीजेपी अपने घोषणापत्र को इस तरह से तैयार करना चाहती है जो टीएमसी के घोषणापत्र को सीधा टक्कर दे सकें। बीजेपी अपना चुनावी घोषणा पत्र 21 मार्च को जारी कर सकती है। बीजेपी बंगालियों को लुभाने की पूरी कोशिश कर रही है लेकिन दूसरी और ममता चोट पर बीजेपी को घायल करती हुई नजर आ रही है।