पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनावों के शुरूआती रुझान के अनुसार मुख्यमंत्री ममता बनर्जी नंदीग्राम में भाजपा के सुवेंदु अधिकारी से पीछे चल रही हैं, लेकिन सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस भाजपा पर बढ़त बनाए हुए है। 292 सीटों के शुरूआती रुझानों के मुताबिक तृणमूल 189 सीटों पर आगे चल रही है, जबकि भाजपा 98 सीटों पर और संयुक्त मोर्चा (संजुक्ता मोर्चा) 5 सीटों पर आगे चल रही है।

2021 का विधानसभा चुनाव सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस के लिए एक बड़ी परीक्षा है क्योंकि भगवा ब्रिगेड ने पश्चिम बंगाल में पहली बार अपनी छाप छोड़ने के लिए पूरी ताकत लगा दी थी, लेकिन अगर शुरूआती रुझानों को एक संकेत के रूप में लिया जाता है, तो ममता बनर्जी को अपने प्रतिद्वंद्वी पर बढ़त हासिल होती दिख रही है। विभिन्न स्रोतों से उपलब्ध रुझानों से संकेत मिला है कि तृणमूल कांग्रेस 292 सीटों में से 178 सीटों पर आगे चल रही है, जबकि भाजपा 108 सीटों पर आगे चल रही है। वाम मोर्चा, कांग्रेस और नवगठित भारतीय धर्मनिरपेक्ष मोर्चा का गठबंधन, बाकी 6 सीटों पर आगे चल रहा है।

दो विधानसभा क्षेत्रों में कोई चुनाव नहीं हुआ क्योंकि संबंधित उम्मीदवारों की मतदान से पहले मृत्यु हो गई। वर्तमान में डाक मतपत्रों की गिनती चल रही है जहां मुख्य रूप से चुनाव ड्यूटी पर सरकारी अधिकारी और 80 वर्ष से अधिक आयु के मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया है। एक पहलू है जो मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को खुश कर सकता है। जैसा कि पोस्टल बैलट की गिनती से तृणमूल का भाजपा पर बढ़त होना दर्शाता है, यह भी संकेत है कि सत्तारूढ़ पार्टी से मुंह मोड़ने वाले सरकारी कर्मचारी तृणमूल के पाले में वापस आने के संकेत दे रहे हैं। पिछले लोकसभा चुनावों में डाक मतपत्रों के आधार पर भाजपा 42 लोकसभा सीटों में से 41 पर आगे थी।

हालांकि, शुरूआती रुझानों से पता चला है कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी नंदीग्राम विधानसभा क्षेत्र में भाजपा के सुवेंदु अधिकारी से पीछे चल रही हैं। नवीनतम रिपोर्टों के अनुसार, चुनाव से पहले तृणमूल कांग्रेस छोडकऱ भाजपा में शामिल हुए अधिकारी 1,492 मतों से आगे चल रहे हैं। दूसरी ओर, राज्य के शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी, पीडब्लूडी मंत्री अरूप विश्वास, बिजली मंत्री सोवांडेब चट्टोपाध्याय और पंचायत मंत्री सुब्रत मुखर्जी जैसे कद्दावर नेता उनके संबंधित क्षेत्रों से आगे हैं, लेकिन अंतिम रिपोर्ट आने तक पर्यटन मंत्री गौतम देब पीछे चल रहे हैं। दूसरी ओर, बीजेपी भारी वजन वाले लॉकेट चटर्जी, स्वपन दासगुप्ता, मुकुल रॉय अपने निर्वाचन क्षेत्रों से आगे रही है, लेकिन बाबुल सुप्रियो टीएमसी के अरुप विश्वास से टॉलीगंज सीट से पीछे हैं।