West Bengal Election 2021 का आज तीसरा चरण जारी है और इसी दौरान TMC नेता गौतम घोष के घर से EVM बरामद की गई है। इस मामले को लेकर चुनाव आयोग ने एक अफसर को सस्पेंड कर दिया है। हालांकि यह खबर आते ही भारतीय जनता पार्टी और तृणमूल कांग्रेस में आरोप-प्रत्यारोप का सिलसिला भी शुरू हो गया है। टीएमसी ने पोलिंग बूथ पर वोटरों को परेशान करने का आरोप लगाया है, तो वहीं बीजेपी नेता का आरोप है कि एक ईवीएम टीएमसी नेता के घर के बाहर मिला है।

उलूबेरिया उत्तर से बीजेपी उम्मीदवार चिरन बेरा ने आरोप लगाया है कि मतदान से पहले की रात टीएमसी नेता गौतम घोष के घर से ईवीएम और वीवीपैट की मशीनें मिली हैं। बीजेपी नेता ने टीएमसी पर चुनाव में गड़बड़ी का आरोप लगाया है। देर रात को ही यहां पर माहौल बिगड़ा जिसके बाद सुरक्षाबलों को लाठीचार्ज करना पड़ा।

टीएमसी नेता के घर के पास ईवीएम मिलने के बाद चुनाव आयोग ने एक्शन लिया है। यहां एक सेक्टर ऑफिसर को सस्पेंड किया गया है। चुनाव आयोग का कहना है कि ये एक रिजर्व ईवीएम था, जिसका वोटिंग में इस्तेमाल नहीं हो रहा था। चुनाव आयोग का कहना है कि सेक्टर ऑफिसर तपन सरकार ईवीएम के साथ अपने रिश्तेदार के घर सोने गए थे, जो नियमों का उल्लंघन है।

आज सुबह मतदान शुरू होने के बाद तृणमूल कांग्रेस ने कई जगह ईवीएम में गड़बड़ी, पोलिंग बूथ पर लोगों को ना जाने देने का आरोप लगाया है। तृणमूल कांग्रेस ने डायमंड हार्बर, उलूबेरिया उत्तर, आरमबाग, मागराघाट पश्चिम समेत अन्य विधानसभा सीटों के पोलिंग बूथ पर गड़बड़ी का आरोप लगाया है। टीएमसी का कहना है कि यहां सुरक्षाबल वोटरों को परेशान कर रहे हैं, इसके अलावा बीजेपी के कार्यकर्ता बड़ी संख्या में पोलिंग बूथ के 100 मीटर एरिया में जुटे हैं।

बीजेपी ने आरोप लगाया है कि टीएमसी के कार्यकर्ताओं ने राईदिघी विधानसभा में उनके पोस्टरों को फाड़ दिया है। इसके अलावा बंगाल में वोटिंग के बीच बीजेपी ने आरोप लगाया है कि राईदिघी के बूथ नंबर 189 में टीएमसी के कार्यकर्ता घुस गए हैं और वोटरों को परेशान कर रहे हैं। 

आपको बता दें कि बंगाल में ये तीसरे चरण का मतदान है। अब से पहले के मतदान में भी टीएमसी और बीजेपी के बीच लगातार आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी रहा है। तीसरे चरण में कुल 31 सीटों पर वोट डाले जा रहे हैं।