तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो एवं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बुधवार को कहा कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) से मुकाबले के लिए सभी विपक्षी दलों को एक मंच पर आकर और मिलजुलकर काम करना चाहिए। बनर्जी ने यहां संवाददाताओं से कहा कि भाजपा से मुकाबले के लिए विपक्षी दलों को एकजुट हो जाना चाहिए और वह भाजपा से मुकाबले के लिए अग्रणी भूमिका निभाने को तैयार हैं।

उन्होंने कहा कि एक ऐसा मंच होना चाहिए जहां सब मिलकर काम कर सकें। यह पूछे जाने पर कि क्या वह विपक्ष का नेतृत्व करेंगी, उन्होंने कहा, हम कोई राजनीतिक भविष्य वक्ता नहीं हैं। यह स्थितियों पर निर्भर करता है, यदि कोई और नेतृत्व करता हैं तो मुझे कोई समस्या नहीं है। उन्होंने दीर्घकालीन योजना की जरूरत पर बल देते हुए कहा कि संसद के मानसून सत्र के बाद मिल-बैठकर बातचीत की जायेगी और कोई फैसला किया जायेगा। यह पूछे जाने पर क्या वह विपक्ष का चेहरा बन सकती हैं, उन्होंने कहा, वह एक सामान्य कार्यकर्ता हैं और एक आम कार्यकर्ता ही बनी रहना चाहती हैं। 

तृणमूल सुप्रीमो ने कहा कि वह सभी दलों से बातचीत कर रही हैं और उन्होंने राष्ट्रीय जनता दल के संस्थापक एवं बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव से कल ही बात की है। उन्होंने कहा, हम लोग साथ बैठेंगे और कुछ महत्वपूर्ण चर्चा करेंगे। दिल्ली प्रवास के दौरान मैं कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और आम आदमी पार्टी के संयोजक एवं दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से मुलाकात करूंगी। उन्होंने पेगासस जासूसी मामले को लेकर मोदी सरकार पर करारा हमला किया और कहा कि वर्तमान हालात आपातकाल से भी गंभीर हैं। 

उन्होंने कहा, पेगासस एक ‘हाईलोडेड वायरस’ है। हमारी सुरक्षा खतरे में है। किसी को आजादी नहीं है। मुख्यमंत्री ने कहा, मेरा फोन हैक किया गया। अभिषेक बनर्जी का फोन हैक किया गया। प्रशांत किशोर का फोन टेप किया गया। यदि आप एक फोन हैक कर सकते हैं तो आप अनेक फोन हैक कर सकते हैं। यह गंभीर मामला है जिससे जीवन, संपत्ति और सुरक्षा जुड़ी हुई है। उन्होंने उच्चतम न्यायालय की निगरानी में पेगासस मामले की जांच कराने की मांग की और कहा कि उन्हें शीर्ष अदालत पर भरोसा है।