पश्चिम बंगाल निकाय चुनाव परिणाम में एकबार फिर ​से भाजपा का सूपड़ा साफ हो गया है। यहां पर सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस ने पश्चिम बंगाल नगरपालिका चुनावों में 108 नगरपालिकाओं में से 102 पर जीत दर्ज की है। TMC द्वारा जीते गए 102 नगर निकायों में से 31 नगर पालिकाओं में कोई विरोधी नहीं है। टीएमसी प्रमुख और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने पार्टी के सभी विजयी उम्मीदवारों को बधाई दी और "भारी जनादेश" पर आभार व्यक्त किया।

यह भी पढ़ें : रूस यूक्रेन युद्ध के बीच सामने आई पुतिन की गर्लफ्रेंड, खूबसूरती देख हो जाएंगे फैन

वाम मोर्चा ने नदिया जिले के ताहेरपुर नगर पालिका में अपनी जीत हासिल की। भारतीय जनता पार्टी, जो पिछले साल विधानसभा चुनावों में 77 सीटें जीतकर पश्चिम बंगाल में मुख्य विपक्षी दल के रूप में उभरी थी, अपना खाता खोलने में विफल रही। कांग्रेस भी एक भी सीट जीतने में नाकाम रही। हैरानी की बात यह है कि दार्जिलिंग नगर पालिका में नवगठित हमरो पार्टी ने जीत हासिल की है।

इस चुनाव में टीएमसी के कुल 2,258, भाजपा के 2021, बसपा के 30 और भाकपा के 99 उम्मीदवार मैदान में थे। इसके अलावा 158 उम्मीदवार राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी के भी थे। 843 प्रत्याशी निर्दलीय भी चुनाव में उतरे थे।

यह भी पढ़ें : रूस यूक्रेन युद्ध के बीच सामने आए पुतिन की गर्लफ्रेंड के सीक्रेट वीडियो, देखकर रह जाएंगे दंग

चुनाव के बाद भाजपा ने कहा था कि इसके परिणामों पर रोक लगा देनी चाहिए। भाजपा का आरोप था कि टीएमसी ने चुनाव में धांधली की है। भाजपा राज्यपाल से चुनाव के दौरान हुई हिंसा पर भी ध्यान देने को कहा था।

टीएमसी ने 108 में से 93 सीटों पर कब्जा कर लिया है। वहीं 27 ऐसी नगरपालिकाएं हैं जहां टीएमसी के अलावा अन्य पार्टियां एक भी वॉर्ड में जीत नहीं हासिल कर पाईं।