इसबार कड़ाके की ठंड पड़ने वाली है क्‍योंकि मौसम विज्ञानिकों ने इस सर्दी के सीजन (Winter 2021) में ज्‍यादा ठंड रहने का पूर्वानुमान लगाया है। विशेषज्ञों के अनुसार इस नवंबर के तीसरे सप्‍ताह तक उत्‍तर भारत (North India) के कुछ हिस्‍सों में शीत लहर (Cold Wave) की की संभावना है। इस साल ला नीना (La Nina) के प्रभाव के कारण उत्तर, मध्य और पूर्वी भारत में सर्दी सामान्य से अधिक रहेगी।

मौसम विशेषज्ञों के अनुसार ला नीना (La Nina) और अल नीनो (Al Nino) का दुनिया भर के मौसम पर व्यापक प्रभाव पड़ता है। समुद्र की सतह, दहलीज से अधिक गर्म होने पर अल नीनो और अधिक ठंडी स्थितियां ला नीना बनती है। ला नीना सामान्य से अधिक तेजी से ठंडा हो रहा है। इस वजह से नवंबर के तीसरे सप्ताह तक उत्तर भारत के कुछ हिस्सों में शीत लहर चलेगी।इस वर्ष ला नीना के प्रभाव के कारण उत्तर, मध्य और पूर्वी भारत में सर्दी सामान्य से अधिक रहने की संभावना है।

मौसम विशेषज्ञों के मुताबिक पश्चिमी विक्षोभ (Western Disturbance) आगे बढ़ गया है और उत्तर-पश्चिम दिशा से तेज हवाएं चलेंगी। इससे प्रदूषण में कमी आएगी और न्यूनतम तापमान में कमी आएगी। अभी उत्तर भारत के अधिकांश हिस्सों में अधिकतम तापमान सामान्य से नीचे है और न्यूनतम तापमान सामान्य के आसपास है।