Cyclone Yaas की वजह से ओडिशा और पश्चिम बंगाल समेत कई राज्यों में अलर्ट जारी किया गया है। तूफान का असर बिहार, यूपी और झारखंड में भी देखने मे मिलेगा। पटना में मौसम विभाग के अनुसार झारखंड के ऊपर से मूव करने की वजह से बिहार में भी तूफान का असर देखने को मिलेगा। बिहार में 27 मई तक  बारिश की संभावना है। जमुई, नवादा, गया, भभुआ, औरंगाबाद, बिहार में 5 दिनों तक बादल छाए रहेंगे।

बंगाल की खाड़ी में बना चक्रवाती तूफान 'यास' बुधवार तक बेहद गंभीर चक्रवाती तूफान में तबदील हो सकता है। भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) के अनुसार 26 मई की सुबह साइक्लोन यास के उत्‍तर ओडिशा और पश्चिम बंगाल के तटों के पास पहुंचने का अनुमान है।

तेज हवा और बज्रपात को देखते हुए वाराणसी जिला प्रशासन ने हेल्पलाइन और टोल फ्री नंबर साथ जरूरी दिशानिर्देश जारी किए हैं। 26 और 27 मई के मध्य गर्जन के साथ बिजली चमकने एवं तेज हवा चलने की संभावना के दृष्टिगत क्या करें और क्या न करें, आवश्यक सावधानी से जुड़े निर्देश जारी किए गए हैं। चक्रवात से संबंधित किसी नुकसान की सूचना और सहायता के लिए हेल्पलाइन नंबर 0542-2221937, 2221939, 2221941, 2221942, 2221944 एवं टोल फ्री नंबर-1077 पर संपर्क कर सकते हैं।

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने 1 अणे मार्ग स्थित संकल्प में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से आपदा प्रबंधन विभाग, संबद्ध विभाग तथा सभी जिलाधिकारियों के साथ चक्रवाती तूफान ‘यास’ की तैयारियों को लेकर उच्चस्तरीय समीक्षा बैठक की। स्वास्थ्य सह आपदा प्रबंधन विभाग के अपर मुख्य सचिव प्रत्यय अमृत ने भारत मौसम विज्ञान विभाग द्वारा ‘यास’ चक्रवात के संबंध में मिली सूचना की विस्तृत जानकारी दी। उन्होंने बताया कि बिहार में 27 मई से 30 मई तक आंधी, तूफान, वज्रपात और बारिश की संभावना है, इसे देखते हुए सभी जिलाधिकारियों को अलर्ट कर दिया गया है।

बिहार में भी यास चक्रवाती तूफान का असर दिखेगा। पटना मौसम विज्ञान केंद्र के मुताबिक 26 मई को राज्य के कई हिस्सों में बारिश होगी लेकिन 27 से 30 मई तक पूरे बिहार के लिए अलर्ट जारी किया गया है। बंगाल से सटे कटिहार, किशनगंज, अररिया, पूर्णिया, भागलपुर, गया, नवादा, औरंगाबाद आदि जिले चक्रवाती तूफान से प्रभावित होंगे।

मौसम विभाग (IMD) के मुताबिक चक्रवाती तूफान 'यास' का प्रभाव बिहार, झारखंड, आंध्र प्रदेश और उत्‍तर-पश्चिमी भारत के मैदानी इलाकों पर भी पड़ेगा। हालांकि, ओडिशा और पश्चिम बंगाल में सबसे ज्‍यादा असर दिखाई देगा। ओडिशा में चक्रवाती तूफान के असर से भुवनेश्वर समेत कई इलाकों में बारिश का सिलसिला जारी है। वहीं, केरल के भी कई इलाकों में आज (मंगलवार) सुबह से ही रुक-रुक कर बारिश हो रही है।

तूफान यास के असर के चलते उत्तर प्रदेश में 26 मई से 28 मई के बीच आंधी-बारिश की संभावना है। मौसम विभाग के डायरेक्टर जेपी गुप्ता ने बताया कि बंगाल की खाड़ी में बना चक्रवाती तूफान 26 मई को वेस्ट बंगाल और ओडिशा के तट से टकराएगा। जिसके कारण तेज आंधी और बारिश के आसार हैं। 26 मई को उत्तर प्रदेश में तेज हवाओं के साथ हल्की बारिश के रूप में इसका असर देखा जा सकेगा। वहीं इस चक्रवात की वजह से 28 मई को पूर्वी उत्तर प्रदेश में तेज आंधी के साथ हल्की बारिश होने की संभावना है। 28 मई को पूर्वी उत्तर प्रदेश में तूफान का असर दिखाई देने का अनुमान है। वाराणसी के आस-पास के जिलों के साथ प्रयागराज, गोरखपुर और यूपी की राजधानी लखनऊ तक भी दिखाई दे सकता है।
भुवनेश्वर मौसम विभाग केंद्र के मुताबिक आज और कल भद्रक, जगतसिंहपुर, बालासोर में अत्यधिक भारी बारिश का रेड अलर्ट जारी किया गया है। जबकि मयूरभंज, जाजपुर, कटक, खोरदा और पुरी के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है।

मौसम विभाग के मुताबिक आंध्र प्रदेश, पुडुचेरी और तमिलनाडु के तटों पर भी यास तूफान का असर दिखेगा। जबकि साइक्लोन यास की वजह से झारखंड, छत्तीसगढ़, बिहार के साथ-साथ अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में भारी बारिश हो सकती है।

मौसम विभाग के अनुसार 26 मई को संथाल इलाके को छोड़कर झारखंड के लगभग 16 जिलों में भारी बारिश की चेतवानी है। इस दौरान 90 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से हवा के भी चलाने की संभावना है।

चक्रवाती तूफान के असर से 25 मई को  झारखंड के दक्षिणी  इलाके पश्चिमी सिंहभूम, सरायकेला, खरसावां इलाके में भारी से बहुत भारी बारिश की चेतावनी मौसम विभाग ने दी है। जबकि 26 मई को 90 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से हवा के भी चलाने की संभावना है।