भारत में मौसम एकबार फिर पलटी खाने वाला है जिसके चलते पश्चिम बंगाल से लेकर गुजरात तक हाल बुरे हो सके हैं। मौसम विभाग के अनुसार बंगाल की खाड़ी में निम्‍न दबाव का क्षेत्र बना है जिसके चलते खतरनाक तूफान आने वाला है। इस तूफान को गुलाब नाम दिया गया है। इसके चलते मौसम विभाग ने पश्चिम बंगाल, ओडिशा, राजस्‍थान, गुजरात समेत कुछ राज्‍यों में अगले कुछ दिन भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है।

आईएमडी के अनुसार कोलकाता और उसके आसपास के क्षेत्र जो अब भी इस सप्ताह की शुरुआत में हुई मूसलाधार बारिश से उबर रहे हैं और अब वहां मंगलवार और बुधवार को भारी बारिश होगी। मौसम कार्यालय ने बताया कि म्यांमार तट के नजदीक उत्तरपूर्व और पड़ोसी पूर्वी मध्य बंगाल की खाड़ी के ऊपर 27 सितंबर को चक्रवात की परिस्थिति बनने की आशंका है और इसके प्रभाव की वजह से अगले 24 घंटे में निम्न दबाव का क्षेत्र बन सकता है। इस परिस्थिति के उत्तरपश्चिम की तरफ बढ़ने और 29 सितंबर के करीब पश्चिम बंगाल तट पर पहुंचने की आशंका है।

मौसम वैज्ञानिक ने कहा कि उत्तर और मध्य बंगाल की खाड़ी के ऊपर मौजूदा गहन दबाव के और गहन होकर शनिवार शाम तक चक्रवाती तूफान में बदलने और रविवार की शाम तक इसके विशाखापत्तनम और गोपालपुर के बीच उत्तर आंध्र प्रदेश-दक्षिणी ओडिशा के तटों को पार करने की आशंका है।
इन मौसमी परिस्थितियों की वजह से दक्षिणी बंगाल के कई स्थानों पर रविवार और सोमवार व ज्यादातर स्थानों पर मंगलवार और बुधवार को गरज के साथ बारिश होगी।

मौसम विभाग के अनुसार रविवार और सोमवार को ओडिशा और आंध्र प्रदेश में भारी बारिश की संभावना है। आईएमडी ने कहा कि 26 सितंबर को दक्षिण एवं तटीय ओडिशा में अधिकतर स्थानों पर हल्की से मध्यम, कुछ स्थानों पर अत्यधिक भारी एवं कहीं-कहीं मूसलाधार बारिश होने की संभावना है। इनके अलावा चलते तटीय आंध्र प्रदेश में कहीं-कहीं भारी से अत्यधिक भारी, ओडिशा के उत्तरी अंदरूनी क्षेत्र, छत्तीसगढ़ और तेलंगाना में भारी बारिश हो सकती है।

आईएमडी के अनुसार 26 सितंबर को बंगाल की खाड़ी के उत्तर-पश्चिमी और पश्चिमी मध्य हिस्से, अपतटीय ओडिशा तथा पश्चिम बंगाल और उत्तरी आंध्र प्रदेश के तटीय इलाकों में 55-65 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलने की संभावना है जिनकी गति 75 किलोमीटर प्रति घंटे तक हो सकती है।
वहीं, सौराष्ट्र, कच्छ और राज्य के दक्षिणी हिस्से सहित गुजरात के कई हिस्सों में अगले तीन दिनों तक बारिश होगी। दक्षिण गुजरात और सौराष्ट्र क्षेत्र, खास तौर से जामनगर, देवभूमि-द्वारका, अमरेली और भावनजर जिलों में अगले तीन दिनों भारी से अति भारी बारिश होने की आशंका जताई है।

अगले 4 दिनों में पूरे राजस्थान में व्यापक बारिश होने की संभावना है। राज्य के पूर्वी हिस्सों में मानसून सक्रिय बना रहेगा और ज्यादातर भागों में हल्के से मध्यम दर्जे की बारिश होगी। वहीं, दक्षिणी भागों के कुछ हिस्सों में भारी बारिश होने की संभावना है।