भारतीय मौसम विज्ञान विभाग के अनुसार पश्चिमी विक्षोभ के कारण देश के कइ राज्यों में बारिश होने की संभावना है। आज भी देश के कई इलाकों में हल्की बारिश के आसार हैं। होली के पहले पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, उत्तरी राजस्थान, पश्चिमी उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश और महाराष्ट्र में तेज बारिश के साथ ओलावृष्टि हो सकती है।

मौसम विभाग के पूर्वानुमान के अनुसार उत्तर बिहार के विभिन्न जिलों में हल्के से मध्यम बादल आ सकते हैं। हालांकि आमतौर पर मौसम शुष्क बने रहने की संभावना है। अगले 28 मार्च तक 10 से 14 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से पछिया हवा चलेगी तथा उसके बाद पुरवा हवा चलने की संभावना है।

झारखंड के कई जिलों में आज आकाश में बादल छाये हुए हैं। कई जिलों में बादल गर्जने के साथ वज्रपात की आशंका विभाग ने व्यक्त की है।

बिहार में मौसम का मिजाज लगातार बदल रहा है। मौसम विभाग ने प्रदेश में बारिश को लेकर नया अलर्ट जारी किया है। पटना स्थित मौसम विज्ञान केंद्र के मुताबिक, 24 मार्च को मुजफ्फरपुर समेत सूबे के करीब 12 जिलों में गरज के साथ बारिश की संभावना है।

मध्यप्रदेश की बात करें तो राज्य के कई शहरों में हल्के बादल छाए नजर आ रहे हैं। एक और पश्चिमी विक्षोभ उत्तर पश्चिम भारत में सक्रिय होगा, जिसका असर मध्यप्रदेश पर भी होगा। छत्तीसगढ़ का भी कुछ यही हाल है। यहां चक्रवात के सक्रिय होने की वजह से एक-दो जगहों पर, खास तौर से बस्तर जिले के आसपास बारिश होने की संभावना है। 24 मार्च को गरज के साथ छींटे पड़ने या हल्की बरसात की भी आशंका जताई गई है।

उत्तर प्रदेश में होली से ठीक पहले मौसम एक बार फिर से करवट ले सकता है। जम्मू-कश्मीर के आसपास सक्रिय पश्चिमी विक्षोभ की वजह से हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड के कई इलाकों में बर्फबारी भी हुई है। भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) की मानें तो मौसम में हुए परिवर्तन की वजह से पंजाब, हरियाणा, दिल्ली और पश्चिमी उत्तर प्रदेश में 24 मार्च को हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है।

पाकिस्तान के पास बने पश्चिमी विक्षोभ और राजस्थान पर कम दबाव के क्षेत्र के कारण मौसम सुहाना बना हुआ है। वहीं मौसम विशेषज्ञों का कहना है कि इन दो कारणों की वजह से होली के पहले पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, उत्तरी राजस्थान, पश्चिमी उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश और महाराष्ट्र में तेज बारिश के साथ ओलावृष्टि की संभावना है। पहाड़ों पर भारी बर्फबारी के साथ तेज बारिश और ओलावृष्टि की आशंका भी जताई जा रही है।

आसमान में बादल छाये रहने और धूल भरी आंधी के चलते मंगलवार को दिल्ली के अधिकतम तापमान में कुछ कमी दर्ज की गई। हालांकि, न्यूनतम तापमान बढ़ कर 21.5 डिग्री सेल्सियस पहुंच गया, जो इस साल अब तक का सर्वाधिक है। मौसम विभाग ने बताया कि अधिकतम तापमान 29.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो सामान्य से कुछ कम है। कुछ इलाकों में हल्की बौछार भी हुई। दिल्ली में सोमवार को अधिकतम तापमान 33.6, जबकि मंगलवार को 35.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था। दिल्ली में वायु गुणवत्ता खराब श्रेणी में बनी रही।

जम्मू कश्मीर में जवाहर सुरंग क्षेत्र में बर्फबारी होने और बनिहाल तथा चंद्रकोट के बीच कई स्थानों पर भूस्खलन होने के बाद जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग को मंगलवार को यातायात के लिए बंद कर दिया गया। अधिकारियों ने बताया कि इसके कारण राजमार्ग के दोनों ओर 300 से ज्यादा वाहन फंस गए।

पश्चिमी विक्षोभ के चलते राजस्थान की राजधानी जयपुर सहित कई शहर मंगलवार को धूल भरी आंधी की चपेट में रहे। राज्य के कई इलाकों में पिछले चौबीस घंटे में अधिकतम 65 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवाएं व आंधी चल रही हैं और कई इलाकों में बूंदाबांदी हुई है। मौसम केंद्र जयपुर के प्रवक्ता के अनुसार जैसा कि पूर्वानुमान था, पिछले 24 घंटों में राजस्थान के कुछ भागों में तेज अंधड़ और आंधी के साथ हल्के से मध्यम दर्जे की बारिश दर्ज की गई है। मौसम केंद्र ने इन जिलों में कहीं-कहीं ओलावृष्टि होने का पूर्वानुमान लगाया है। मौसमी बदलाव का असर बुधवार से समाप्त होने की संभावना है जबकि राज्य में मौसम शुष्क रहेगा। मौसम केंद्र के प्रवक्ता के मुताबिक उत्तरी हवाओं के प्रभावी होने से तापमान में दो से तीन डिग्री सेल्सियस तक की आने की संभावना है।