शिवसेना ने अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण के लिए ट्रस्ट बनाने के फैसले का स्वागत किया है। शिवसेना सांसद अरविंद सावंत ने बुधवार को कहा कि मंदिर का निर्माण प्राथमिकता है। सावंत ने संसद में आईएएनएस से कहा, ‘‘हम प्रधानमंत्री के फैसले का स्वागत करते हैं। यह बाला साहेब ठाकरे का सपना था। उन्होंने हमेशा इस बात पर जोर दिया था कि अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण होना चाहिए। यहां तक कि लोकसभा चुनाव के दौरान मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने भी लगातार ‘पहले मंदिर, फिर सरकार’ कहा। वह दो बार अयोध्या भी गए और रामलला के दर्शन किए।’’

सावंत ने यह भी बताया कि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री वहां बार-बार जाएंगे। उन्होंने कहा, ‘‘लेकिन सुप्रीम कोर्ट सब से ऊपर है। अदालत ने मंदिर के पक्ष में अपना फैसला दिया, जो पहले कोई भी नहीं कर सका। इसलिए अदालत के आदेश को लागू करने की जिम्मेदारी सरकार की है। प्रधानमंत्री ने आज लोकसभा में इसकी घोषणा की। मंत्री परिषद की बैठक में पहले ही इस पर चर्चा की गई थी। हम इसका स्वागत करते हैं और प्रधानमंत्री मोदी का धन्यवाद करते हैं।’’

यह पूछे जाने पर कि क्या शिवसेना की सहयोगी कांग्रेस प्रधानमंत्री को धन्यवाद देने से निराश होगी? उन्होंने कहा, ‘‘इसका हमारे सहयोगी से कोई लेना-देना नहीं है। हमने अपनी विचारधारा (कांग्रेस के साथ गठबंधन में होने के बावजूद) नहीं छोड़ी है। मंदिर एक शीर्ष है। हमारे मंदिर एक शीर्ष प्राथमिकता है।’’ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को लोकसभा में घोषणा की कि सरकार ने अयोध्या में भव्य राम मंदिर के निर्माण के लिए ‘श्री रामजन्मभूमि तीर्थक्षेत्र’ ट्रस्ट के गठन के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। मोदी ने कहा कि रामजन्मभूमि मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट के नौ नवंबर के फैसले के मद्देनजर बुधवार सुबह केंद्रीय कैबिनेट की बैठक में ऐतिहासिक फैसला किया गया।

अब हम twitter पर भी उपलब्ध हैं। ताजा एवं बेहतरीन खबरों के लिए Follow करें हमारा पेज :  https://twitter.com/dailynews360