सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने शुक्रवार को कहा कि चीन ताकतवर देश होगा लेकिन भारत भी कमजोर देश नहीं है। उन्होंने कहा कि भारत किसी को भी अपने क्षेत्र में घुसपैठ की अनुमति नहीं देगा। आर्मी चीफ ने चीन की तरफ से मिलने वाली चुनौतियों से निपटने के लिए भारतीय सेना की रणनीति पर बात की। रावत ने कहा, अब समय आ गया है कि भारत अपना ध्यान उत्तरी सीमा की ओर केंद्रित करें। देश चीन की आक्रामकता से निपटने में भी सक्षम है।

आपको बता दें कि चीन क्षेत्र में अपना प्रभाव बढ़ाने के लिए आक्रामक रवैया पेश कर रहा है। सेना प्रमुख ने कहा कि भारत अपने पड़ोसियों को देश से दूर होकर चीन के करीब नहीं जाने दे सकता। डोकलाम मसले पर रावत ने कहा, हम सीमा पर होने वाली गतिविधियों पर नजर रखे हुए हैं। किसी भी तरह की हलचल हुई तो हम तैयार हैं। सेना प्रमुख ने प्रेस कांफ्रेंस में क हा,चीन एक शक्तिशाली देश है लेकिन हम कमजोर देश नहीं है। भारत में चीनी घुसैफट से जुड़े प्रश्न पर सेना प्रमुख ने कहा, हम किसी को भी हमारे क्षेत्र में घुसपैठ की अनुमति नहीं देंगे। रावत ने आतंकवाद से निपटने को लेकर पाकिस्तान को दी गई अमरीका की चेतावनियों के बारे मे ंकहा कि भारत को इंतजार करना होगा और इसका असर देखना होगा। पाकिस्तान में आतंकी केवल इस्तेमाल कर फेंकने की चीज है। भारतीय सेना का नजरिया यह सुनिश्चित करना रहा है कि उसे दर्द का एहसास होगा।