राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के नेता और पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव के राजद के 15 साल के शासनकाल में हुई गलतियों के लिए माफी मागंने के बाद बिहार की राजनीति गर्म हो गई है। राजद के विरोधी भाजपा और जदयू अब तेजस्वी के बयान पर सवाल उठा रहे हैं। राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव के पुत्र तेजस्वी यादव ने अपने पिता और मां के 15 साल के शासन में हुई गलतियों के लिए माफी मांगी है।

तेजस्वी ने गुरुवार को देर शाम कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘ठीक है, 15 साल हम लोग सत्ता में रहे, पर हम सरकार में नहीं थे, हम छोटे थे। मगर कोई इससे इनकार नहीं कर सकता कि लालू प्रसाद यादव के राज में सामाजिक न्याय नहीं हुआ। 15 साल में हमसे कोई भूल हुई थी तो हम उसके लिए माफी मांगते हैं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘वो दौर अलग था और आज का समय अलग है।’’

इस बयान के बाद भाजपा और जदयू तेजस्वी पर ही सवाल उठा रहे हैं। जदयू के नेता और बिहार के मंत्री नीरज कुमार ने विकास के मुद्दे पर राजद सरकार को घेरते हुए कहा, ‘‘राजद के 15 साल और राजग के 15 साल, तुलना कर लीजिए।’’ उन्होंने कहा कि जहां लालू प्रसाद का पैतृक गांव है, वहां का विकास भी राजग सरकार में हुआ। जो अपने गांव का विकास नहीं कर सका, वह दूसरे के विकास की बात क्या करेगा। उन्होंने कहा कि अब माफी मांगने से क्या होगा। 

इधर, भाजपा के प्रवक्ता डॉ. निखिल आनंद ने तेजस्वी के माफी मांगने को जनता को भरमाने वाला बताते हुए कहा, ‘‘जिस तरह सिख दंगों और कश्मीर को बर्बाद करने के लिए देश की जनता कांग्रेस को कभी माफ नहीं करेगी, उसी तरह बिहार को बर्बाद करने के लिए बिहार में अपराध, पलायन, उद्योगों के चले जाने के लिए बिहार की जनता राजद को कभी माफ नहीं करेगी।’’ उन्होंने सवालिया लहजे में आगे कहा, ‘‘बिहार को बर्बाद कर आज तेजस्वी माफी मांग रहे हैं, क्या कभी लालू प्रसाद ने माफी मांगी है? आप चुनाव के वक्त ऐसे बयानों से जनता को नहीं भरमा सकते।’’