बीती रात आए भीषण तूफान के साथ-साथ भारी मात्रा में बरसात भी आई।  इस बेमौसम बारिश ने राज्य भर में भारी क्षति पहुंचाई हैं। तूफान से राज्य में कई लोग घायल हो गए। नगांव जिले में तुफान की चपेट में आने से एक महिला सहित कुल तीन लोग घायल हो गए। जब तूफान आया, उस वक्त राज्यवासी बोहागी बिहू पर आयोजित सांस्कृतिक संध्या का आनंद ले रहे थे।
लेकिन लोगों को संभलने तक का मौका नहीं मिला और बिहू पंडाल गिर पड़े। मौसम विभाग ने जानकारी दी कि अगले 24 घंटे में असम, मेघालय, नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम और त्रिपुरा में 40-50 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चलने वाली तेज हवाओं के साथ आंधी-बारिश आ सकती है। साथ ही विभाग ने ये भी जानकारी दी कि पश्चिमी विक्षोभ के कारण आंधी-बारिश और बिजली गिरने जैसी घटनाएं हो रही है।
तूफान का कारण जगह जगह पर बिजली के तार टूट जाने से बिजली आपूर्ती सेवा भी घंटों ठप रही। इसी के साथ कामरुप और नगांव जैसे जिलों में तूफान का अधिक कहर देखा गया।  कलियाबोेर के जखलाबंधा और सालना रेलवे स्टेशन के बीच पटरियों पर एक बड़ा पेड़ गिरने की वजह से सिलघाट-गुवाहाटी यात्रीवाही रेल करीब 2.30 घंटे तक खड़ी रही।
असम के साथ-साथ मेघालय में भी तूफान का कहर देखने को मिला।  इस तूफान से गारो हिल्स के कई गांव प्रभावित हुए हैं। बड़ी तादात में टिन की छतें उड़ गई। स्थानीय लोगों ने बताया कि हवा का वेग बहुत ही तेज था। इसके कारण तीन हजार घर प्रभावित हुए हैं और कई राज्यों में भारी नुकसान हुआ।