ओडिशा तथा पश्चिम बंगाल के तटों के आसपास और उत्तरी अंडमान सागर में अगले 24 घंटे के दौरान तेज हवा चलने के आसार हैं, जिसके कारण मछुआरों को समुद्र से दूर रहने की चेतावनी जारी की गयी है। मौसम विभाग ने बताया कि इस दौरान पश्चिम-मध्य तथा दक्षिण-पश्चिम अरब सागर के साथ-साथ मध्य और दक्षिण बंगाल की खाड़ी में 40 से 50 किलोमीटर की रफ्तार से हवाएं चल सकती हैं।

इन क्षेत्रों में मछुआरों को समुद्र में नहीं जाने की चेतावनी जारी की गयी है। मध्य महाराष्ट्र, कोंकण, गोवा, पूर्वी तथा पश्चिमी मध्य प्रदेश, विदर्भ, छत्तीसगढ़, ओडिशा, गुजरात, तेलंगाना,तटीय एवं दक्षिण आंतरिक कर्नाटक, उत्तराखंड, पश्चिमी उत्तर प्रदेश, पूर्वी राजस्थान, उप हिमालयी पश्चिम बंगाल, सिक्किम, अंडमान-निकोबार द्वीप समूह, सौराष्ट्र, कच्छ, मराठवाड़ा, तटीय आंध्र प्रदेश, यनम, उत्तरी आंतरिक कर्नाटक, तमिलनाडु, पुड्डुचेरी, कराइकल, केरल तथा माहे में भारी से बहुत भारी बारिश होने के आसार हैं।दक्षिण-पश्चिम मॉनसून कोंकण, गोवा और केरल में प्रबल है जबकि ओडिशा, उत्तराखंड, पूर्वी मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, तटीय तथा दक्षिण आंतरिक कर्नाटक में यह सक्रिय है। वहीं बिहार, पूर्वी उत्तर प्रदेश, हरियाणा और हिमाचल प्रदेश में यह कमजोर पड़ गया है। बिहार, झारखंड, पश्चिम बंगाल और सिक्किम में गरज के बारिश होने की संभावना है। पूर्वी मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, झारखंड, पश्चिमी राजस्थान, तमिलनाडु, पुड्डुचेरी, कराइकल, उप हिमालयी पश्चिम बंगाल, सिक्किम, नागालैंड, मणिपुर, मीजोरम तथा त्रिपुरा के विभिन्न हिस्सों में में मंगलवार रात साढ़े आठ बजे से बुधवार सुबह साढ़े आठ बजे तक गरज के साथ बौछारे पड़ीं। पश्चिम बंगाल, सिक्किम, ओडिशा, झारखंड, पूर्वी मध्य प्रदेश, विदर्भ, छत्तीसगढ़, कोंकण, गोवा, तटीय कर्नाटक, आंध्र प्रदेश, केरल, अंडमान-निकोबार द्वीप समूह, अरुणाचल प्रदेश, असम मेघालय, उत्तराखंड, मराठवाड़ा, तेलंगाना, रायलसीमा, उत्तरी तथा दक्षिणी कर्नाटक के आंतरिक हिस्सों और लक्षद्वीप के कई हिस्सों में बारिश हुई या गरज के साथ छींटे पड़ें। इसके अलावा नागालैंड, मणिपुर, मीजोरम, त्रिपुरा, बिहार, पूर्वी तथा पश्चिमी उत्तर प्रदेश, पश्चिमी मध्य प्रदेश, गुजरात, मध्य मराराष्ट्रा, तमिलनाडु, हरियाणा, पंजाब, हिमाचल प्रदेश, जम्मू-कश्मीर और राजस्थान के विभिन्न क्षेत्रों में भी बारिश हुई या गरज के साथ छींटे पड़ें।