मध्यप्रदेश में एक बार फिर बारिश का दौर शुरू हो गया है।  अगले चौबीस घंटों के दौरान राजगढ़, विदिशा, रायसेन, भिंड, बैतूल, खंडवा, बड़वानी, उज्जैन, देवास, खरगोन और गुना जिलों में भारी से भारी बारिश हो सकती है।  यहां पर तीन इंच से से लेकर 8 इंच तक पानी गिर सकता है।  इंदौर और होशंगाबाद समेत 10 जिलों में रिमझिम हो सकती है।  भोपाल में भी हल्की बारिश होगी। 

मौसम वैज्ञानिक वेदप्रकाश सिंह ने बताया कि सिंगरौली, सीधी, अनूपपुर, डिंडोरी, बालाघाट, सागर और छतरपुर जिलों में मध्यम से तेज बारिश होगी।  सागर, रीवा, भोपाल, ग्वालियर और चंबल संभागों में कहीं-कहीं गरज-चमक के साथ बौछारें पड़ी सकती हैं। 

वर्तमान में पश्चिमी राजस्थान, दक्षिणी बिहार और विदर्भ-दक्षिण छत्तीसगढ़ के ऊपर चक्रवातीय एक्टिविटी है।  मानसून ट्रफ गंगानगर, नरनौल, ग्वालियर, सतना, डाल्टनगंज, क्योंझरगढ़ और बालासोर से होते हुए पूर्व-मध्य बंगाल की खाड़ी तक फैली है, जबकि पूर्व-पश्चिम ट्रफ राजस्थान-उत्तर प्रदेश से होते हुए दक्षिणी बिहार तक है।  झारखंड, छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र से लेकर गुजरात तक अन्य ट्रफ लाइन भी गुजर रही है। इसी से मानसूनी गतिविधियां सक्रिय हैं। 

बीते चौबीस घंटों के दौरान होशंगाबाद के पिपरिया में 6 इंच, बैतूल के घोड़ाडोंगरी में 5.5 इंच, भैंसदेही में 4 इंच, चिचोली में 3 इंच, विदिशा के पठारी में 5 इंच, कुरवाई में 4 इंच, उज्जैन के नागदा में 5 इंच, झाबुआ के पेटलावद में 3 इंच, रतलाम शहर में 3 इंच, सागर के केसली में 3.5 इंच, सीधी के बहरी में 3 इंच सबसे ज्यादा पानी गिरा।