पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता और उसके आस-पास के इलाकों में कल देर रात से हो रही भारी बारिश और तेज हवाएं चलने के कारण राज्य के तटीय इलाकों में बाढ़ जैसे हालात बन सकते हैं। 

लगातार हो रही बारिश और तेज हवाओं के कारण कोलकाता में सामान्य जनजीवन बुरी तरह से प्रभावित हुआ। सड़कों पर सार्वजनिक परिवहन के साधनों की कमी के कारण लोगों को कार्यालय जाने में काफी कठिनाई का सामना करना पड़ा। 

शहर के ईएम बाईपास, एनएससी बोस रोड, एम जी रोड, उल्टाडांगा, कांकुरगाची मोड़, पतिपुकार अंडरपास आदि जैसे इलाकों में जल-भराव के कारण जगह-जगह जाम लग गया। क्षेत्रीय मौसम विभाग के अनुसार आज चांदबाली से 25 किलोमीटर पश्चिम में ओडिशा के तटीय क्षेत्र के ऊपर दबाव का क्षेत्र बना हुआ है। 

मौसम विभाग ने शनिवार तक और बारिश होने का अनुमान व्यक्त किया है। उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल के गांगेय क्षेत्र, माल्दा, उत्तर और दक्षिण दिनाजपुर जिलों के अलग-अलग इलाकों में भारी से बहुत भारी बारिश होने का अनुमान व्यक्त किया है। कोलकाता में आज सुबह साढ़े आठ बजे तक 53.7 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई। 

मौसम विभाग ने पश्चिम बंगाल के उपहिमालयी क्षेत्र के अलग-अलग इलाकों में अगले 48 घंटों के दौरान भारी बारिश की चेतावनी जारी की है। इसके अलावा पूर्वी झारखंड, मिजोरम और त्रिपुरा के अलग-अलग इलाकों में भी अगले 24 घंटों के दौरान भारी बारिश हो सकती है। 

जबकि अरुणाचल प्रदेश, नागालैंड और मणिपुर में अगले 48 घंटों के दौरान भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है। ओडिशा और पश्चिम बंगाल के तटीय इलाकों में 45-55 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवाएं चलने का अनुमान है।