जहानाबाद में पंचायत चुनाव 7 चरणों में होगा। कैबिनेट से स्वीकृति मिलने के बाद जिला प्रशासन में पंचायत चुनाव की तैयारियां तेज कर दी है। पंचायत चुनाव के लिए जिले में ईवीएम पहुंच चुके हैं। डीएम हिमांशु कुमार के निर्देश के आलोक में सभी ईवीएम का फर्स्ट लेबल चेकिंग की प्रक्रिया पूरी हो गई है। 

नगर पंचायत घोसी और काको के गठन के बाद जिले में पंचायतों की संख्या 88 हो गई है। 88 पंचायतों मेोगा मुखिया एवं सरपंच पद के लिए चुनाव होगा।वहीं 1207 वार्डो तथा पंचों के के पद के लिए चुनाव होगा। जिला प्रशासन ने इसके लिए 1207 मूल मतदान केंद्र बनाए हैं। वही 28 सहायक मतदान केंद्र एवं तेरह चलंत मतदान केंद्र स्थापित किए गए हैं। प्राप्त जानकारी के अनुसार रतनी फरीदपुर प्रखंड में 197, जहानाबाद प्रखंड में 202, घोसी में 101, मोदनगंज प्रखंड में 114, हुलासगंज प्रखंड में 120, काको प्रखंड में 195 तथा मखदुमपुर प्रखंड में 306 मतदान केंद्र बनाए गए हैं। 

जिला प्रशासन द्वारा भेजे गए प्रस्ताव के मुताबिक प्रथम चरण में काको, द्वितीय चरण में घोसी, तृतीय चरण में रतनी फरीदपुर, चौथे चरण में हुलासगंज,पांचवें चरण में जहानाबाद, छठे चरण में मोदनगंज एवं सप्तम चरण में मखदुमपुर प्रखंड में चुनाव होगा। पंचायती राज विभाग के प्रधान सचिव के द्वारा निर्गत प्रेस नोट के जिले जिले में प्रथम चरण का चुनाव 24 सितंबर, द्वितीय चरण का चुनाव 29 सितंबर, तृतीय चरण का चुनाव 8 अक्टूबर, चौथे चरण का चुनाव 20 अक्टूबर, पांचवें चरण का चुनाव 24 अक्टूबर, छठे चरण का चुनाव 3 नवंबर एवं सातवें चरण का चुनाव 15 नवंबर को होगा।

जिले में पंचायत चुनाव को लेकर प्रशासनिक तैयारी की जा रही है। पदाधिकारी एवं कर्मियों को चुनाव के लिए कोविड-19 गाइडलाइन के तहत प्रशिक्षण देने के लिए तैयारियां की जा रही है। सभी कोषांगों का गठन कर लिया गया है एवं कोषांगों की बैठक समय-समय पर हो रही है। जिले में पांच चरण में पंचायत चुनाव कराया जाएगा। प्रथम चरण 24 सितंबर से पांचवां चरण 24 अक्टूबर तक चुनाव प्रक्रिया पूरी हो सकती है। ऐसी संभावना है कि 24 सितंबर को प्रथम चरण का चुनाव होगा। राज्य सरकार ने पंचायत चुनाव को लेकर 24 अगस्त को अधिसूचना जारी करने की स्वीकृति चुनाव आयोग को दे दी है। अगर अधिसूचना जारी होती है तो जिले में 24 सितंबर से लेकर 24 अक्टूबर तक पंचायत चुनाव कराए जाएंगे।

पंचायत चुनाव को लेकर प्रशासनिक तैयारी लगभग पूरी होने को है। जिले के 468842 मतदाता 64 मुखिया, 64 सरपंच, 87 पंचायत समिति सदस्य, 867 वार्ड सदस्य, 867 पंच सदस्य एवं 09 जिला परिषद सदस्य का चुनाव करेंगे। शांतिपूर्वक एवं निष्पक्ष चुनाव कराने के लिए 881 मतदान केंद्र बनाए गए हैं। अरवल प्रखंड में 96 भवनों में 144 मतदान केंद्र बनाए गए हैं। इसी प्रकार कलेर में 132 भवनों में 216 मतदान केंद्र, करपी में 190 भवनों में 266, कुर्था में 98 भवनों में 145 तथा वंशी प्रखंड में 72 भवनों में 110 मतदान केंद्र बनाए गए हैं। इसमें 29 सहायक मतदान केंद्र भी शामिल हंै। प्रत्येक मतदान केंद्र पर अधिकतम 850 मतदाता होंगे। इससे अधिक मतदाता वाले मतदान केंद्र पर बगल में ही सहायक मतदान केंद्र बनाया गया है। मतदान कराने के लिए ईवीएम मशीन, बीयू एवं सीयू का भंडारण कर लिया गया है तथा ईवीएम मशीन का प्रथम स्तरीय जांच चल रही है। जांच का कार्य 1 सप्ताह के अंदर पूरा होने की संभावना है। वंशी प्रखंड में पंचायत चुनाव 24 सितंबर को प्रथम चरण में होगा। अरवल प्रखंड में 29 सितंबर, कुर्था प्रखंड में 8 अक्टूबर, कलेर प्रखंड में 20 अक्टूबर एवं करपी प्रखंड में 24 अक्टूबर को सबसे अंतिम पांचवा चरण में चुनाव कराने की तैयारी की जा रही है।

जिला पंचायती राज पदाधिकारी मृत्युंजय कुमार ने बताया कि चुनाव आयोग द्वारा अभी चुनाव की तिथि निर्धारित नहीं है। ऐसी संभावना है कि 24 अगस्त को अधिसूचना जारी होगा। जिले में 5 चरण में चुनाव कराए जाएंगे। अभी मतदाता सूची का अंतिम प्रकाशन नहीं हुआ है। मतदाताओं की संख्या बढ़ भी सकती है। जिले में सभी प्रखंड में एक एक बज्र गृह बनाया गया है। इसके अलावा कुल 64 सेक्टर एवं 64 कलस्टर सेंटर बनाए गए हैं। चुनाव कराने को लेकर पदाधिकारियों एवं कर्मियों को प्रशिक्षण देने का काम किया जा रहा है।