रूस और यूक्रेन के बीच आज 25 दिन से युद्ध जारी है। यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की भले ही दुनियाभर के देशों से रूस पर दबाव बनाने और युद्ध को रोकने में मदद करने की गुहार लगा रहे हैं लेकिन रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन पर इसका कोई फर्क नहीं पड़ रहा। इसका इशारा उन्होंने युद्ध के मैदान में हाइपरसोनिक मिसाइल की एंट्री कराके दे दिया है। अब खबरें आ रही हैं कि पुतिन ने परमाणु युद्ध की ओर पहला कदम बढ़ा दिया है।

कभी राकेट, कभी मिसाइल, कभी बम तो कभी टैंक, रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन यूक्रेन को तबाह करने के लिए किसी भी हथियार के इस्तेमाल से हिचक नहीं रहे। पुतिन का प्लान है यूक्रेन का सर्वनाश, लेकिन पुतिन का प्लान सिर्फ उतना नहीं है जितना कि दिख रहा है। तबाही की तैयारी इससे ज्यादा की है। इससे कहीं ज्यादा बड़ी है। पुतिन की तैयारी अब न्यूक्लियर वॉर यानी परमाणु युद्ध की है।

यह भी पढ़ें : सिक्किम में चला प्लास्टिक के खिलाफ सख्त अभियान, लोगों की पहली पसंद बनी बांस की बोतल

दुनिया भी यही मान रही है कि पुतिन का अगला प्लान परमाणु युद्ध है। ये बात क्रेमलिन के बड़े अधिकारी कह रहे हैं। इन टॉप अधिकारियों के मुताबिक, पुतिन ने हाल ही में 'न्यूक्लियर वॉर इवैक्युएशन ड्रिल’ करने की मांग की है। पुतिन की इस मांग ने सभी को चौंका दिया है. पुतिन ने ये मांग ऐसे वक्त की है जब पश्चिमी देशों के साथ रूस की तनातनी लगातार बढ़ती जा रही है। जान लें कि 'न्यूक्लियर वॉर इवैक्युएशन ड्रिल’ वो प्रक्रिया है जिसमें परमाणु युद्ध के समय लोगों को सुरक्षित जगहों पर ले जाया जाता है।

खबर है कि यूक्रेन के साथ युद्ध में रूस के सैनिकों के मारे जाने की संख्या लगातार बढ़ रही है, ऐसे में पुतिन का न्यूक्लियर वॉर इवैक्युएशन ड्रिल का प्लान तबाही से भरा साबित हो सकता है। वैसे परमाणु युद्ध जैसे खतरे का ट्रेलर पुतिन ने यूक्रेन में दिखा दिया है। यूक्रेन पर कब्जे के लिए पुतिन ने अपने महाविनाशक को युद्ध के मैदान में उतार दिया है। रूस ने ऐलान किया है कि उसने यूक्रेन में हाइपरसोनिक मिसाइल Kinzhal का इस्तेमाल किया है।

यह भी पढ़ें : अरूणाचल की बेटियों ने किया नाम रोशन, राष्ट्रीय राफ्टिंग चैंपियनशिप में जीता सिल्वर

इस मिसाइल की मदद से रूस ने पश्चिमी देशों की ओर से यूक्रेन को दिए गए हथियारों के गोदाम को तबाह कर दिया। ये महाविनाशक मिसाइल इतनी खतरनाक है कि अभी तक किसी भी देश के पास इसका तोड़ नहीं है। ये मिसाइल परमाणु बम गिराने में भी सक्षम है। माना जा रहा है कि रूस ने यूक्रेन को चेतावनी देने के लिए इसका इस्तेमाल किया है। अमेरिका ने भी चेतावनी दी है कि रूस परमाणु हमला कर सकता है।

इससे पहले भी रूस की मीडिया के हवाले से आई खबरों में दावा किया गया था कि परमाणु युद्ध के संभावित खतरे को देखते हुए पुतिन ने अपने परिवार को सीक्रेट लोकेशन पर भेज दिया है। पुतिन के परिवार को ऐसे सुरक्षित जगह भेजने का दावा किया गया था जो सिर्फ एक बंकर नहीं बल्कि अंडरग्राउंड शहर है।

व्लादिमीर पुतिन NATO देशों को लगातार धमकाते रहे हैं और उनसे कहते रहे हैं कि अगर उन्होंने यूक्रेन विवाद में दखल दिया तो इतिहास का अब तक का सबसे बड़ा खामियाजा भुगतना पड़ेगा। पुतिन ने कुछ दिन पहले अपनी परमाणु सेना को भी हाई अलर्ट कर दिया था। पुतिन के इरादे कितने आक्रामक हैं, इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि यूक्रेन की तरफ से अब पहली बार हाइपरसोनिक मिसाइल Kinzhal का इस्तेमाल किया गया है।