न्यूयार्क। अमेरिका में न्यूयॉर्क के गवर्नर ने पूरे राज्य में वायरस फैलने के कारण पोलियो पर आपातकाल की स्थिति घोषित कर दी है। स्वास्थ्य अधिकारियों का कहना है कि न्यूयॉर्क शहर और उसके आसपास के चार काउंटियों में अपशिष्ट जल के नमूनों में पोलियो वायरस के लिए सकारात्मक परीक्षण किया गया है, जो पक्षाघात का कारण बन सकता है। 

ये भी पढ़ेंः खुशखबरीः सरकारी कॉलेजों में सभी छात्राओं को मुफ्त शिक्षा प्रदान करेगी इस राज्य की सरकार

हालांकि अब तक केवल एक मामले की पुष्टि हुई है। अमेरिका में साल 1955 में पोलियो टीकाकरण शुरू किया गया था, जिसके बाद से पोलियो की वृद्धि में कमी देखी गई और अमेरिका को वर्ष 1979 तक पोलियो मुक्त घोषित कर दिया गया था। उन्होंने बताया कि राज्य के कुछ हिस्सों में टीकाकरण की दर बहुत कम है और पोलियो के सकारात्मक लक्षण पाए जा रहे हैं, इसलिए शुक्रवार को आपातकालीन घोषणा का उद्देश्य टीकाकरण दरों को बढ़ावा देना है। 

ये भी पढ़ेंः भाजपा शासन में संसदीय लोकतंत्र खतरे में : विपक्ष के नेता माणिक सरकार

अधिकारियों ने कहा कि पोलियो का कोई इलाज नहीं है लेकिन इसे टीके से रोका जा सकता है। इस वायरस के लक्षण मांसपेशियों में कमजोरी और पक्षाघात हैं। न्यूयॉर्क के राज्य के स्वास्थ्य विभाग ने कहा कि उसका लक्ष्य टीकाकरण दरों को मौजूदा राज्य-व्यापी औसत 79 प्रतिशत से बढ़ाकर 90 प्रतिशत से ऊपर करना है।