विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के पति और मिजोरम के पूर्व राज्यपाल स्वराज कौशल का एक और ट्वीट वायरल हो गया है। दरअसल उनके ट्वीट को लेकर विवाद हो गया था। सुप्रीम कोर्ट के वकील स्वराज कौशल ने मैरिटल रेप के मसले पर केन्द्र सरकार की ओर से अदालत को दिए गए जवाब पर आधारित एक आर्टिकल का लिंंक रीट्वीट करे हुए लिखा कि (मैरिटल रेप को अपराध घोषित करने पर)घरों से ज्यादा पति जेल में होंगे।


उनके इस ट्वीट पर एक यूजर ने सवाल किया कि क्या वह मैरिटल रेप को डिफेंड कर रहे हैं। इस पर कौशल ने जवाब दिया कि मैरिटल रेप जैसा कुछ नहीं होता। हमारे घरों को पुलिस थानों में तब्दील नहीं होना चाहिए। कौशल के इस जवाब पर सोशल मीडिया पर बहस छिड़ गई।


जब वह ट्विटर पर आलोचनाओं से घिरे तो उन्होंने कुछ देर के लिए अपने अकउंट की प्रिवेसी सेटिंग्स बदल दी ताकि सीमित लोग ही उनके ट्वीट्स देख पाएं लेकिन तब तक लोग उनके ट्वीट का स्क्रीनशॉट ले चुके थे।



कुछ घंटे बाद ही कौशल ने एक और ट्वीट किया, मेरा अकाउंट हमेशा से प्रोटेक्टेड था। कभी कभार रीट्वीट की रिक्वेस्ट पर मैं इसे ओपन कर देता था। अब यह सबके लिए खुला है। लोग अपनी परवरिश के मुताबिक भाषा का प्रयोग कर सकते हैं।


इसके बाद उन्होंने कुछ और ट्वीट किए जिनमें उन्होंने एक पति के तौर पर सुषमा स्वराज के साथ अपने रिश्ते और नॉन पॉलिटिकल बैकग्राउंड का जिक्र किया। इसके एक घंटे बाद उन्होंने एक और ट्वीट किया जो कि उनका इस मामले में आखिरी ट्वीट था।

इस ट्वीट से जाहिर होता है कि उनको कुछ ज्यादा ही आलोचना का सामना करना पड़ गया था। उन्होंने लिखा, अगर आप गालियां देना चाहते हैं तो जल्दी करें। मैं इस अकाउंट को लॉक करने जा रहा हूं ताकि संवाद की शिष्टता बनी रहे। इसके बाद उन्होंने अपने अकाउंट की प्रिवेसी सेटिंग्स बदल दी। हालांकि ऐसा नहीं था कि सब उनकी आलोचना ही कर रहे थे, कुछ लोग ऐसे भी थे जो कानूनों के दुरुपयोग का हवाला देकर स्वराज कौशल
के बयान को सही ठहरा रहे थे। गौरतलब है कि अक्सर स्वराज कौशल के ट्वीट्स उनके सेंस ऑफ ह्यूमर के लिए वायरल होते रहे हैं।