केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने गुरुवार को दिल्ली के दो अस्पतालों का दौरा किया, जहां वे ट्रैक्टर मार्च के दौरान हुई हिंसा में घायल हुए पुलिसकर्मियों से मिले। गृह मंत्रालय के अधिकारियों के अनुसार, घायल पुलिसकर्मियों का हालचाल जानने अमित शाह सिविल लाइन क्षेत्र में सुश्रुत ट्रॉमा सेंटर और तीरथ राम अस्पताल पहुंचे। सूत्रों के अनुसार 26 जनवरी को हुए उपद्रव के बाद स्थिति का जायजा लेने गृह मंत्री अमित शाह आज लालकिला जा सकते हैं।

आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, हिंसा में 394 पुलिस कर्मी घायल हुए। उनमें से अधिकांश अस्पताल में भर्ती हैं जबकि कुछ आईसीयू में हैं। 25 से अधिक आपराधिक मामले दर्ज किए गए हैं, 19 अभियुक्तों को गिरफ्तार किया गया है और 50 से अधिक प्रदर्शनकारियों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया है।मंगलवार को राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के कई हिस्सों में हिंसक झड़पों के बाद, गृह मंत्री ने अपने आवास पर बुधवार को शीर्ष अधिकारियों के साथ एक आपातकालीन बैठक की।

सूत्रों के अनुसार, बैठक में गृह सचिव, निदेशक इंटेलिजेंस ब्यूरो और दिल्ली पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे। दिल्ली पुलिस ने गणतंत्र दिवस के अवसर पर हिंसा के संबंध में अब तक 37 किसान नेताओं के खिलाफ 25 मामले दर्ज किए हैं। इन नेताओं में स्वराज इंडिया के अध्यक्ष योगेंद्र यादव, सामाजिक कार्यकर्ता मेधा पाटकर और भारतीय किसान यूनियन की हरियाणा इकाई के अध्यक्ष गुरनाम सिंह चढ़ुनी शामिल हैं। पुलिस ने लाल किले की हिंसा मामले में पंजाबी अभिनेता दीप सिद्धू और गैंगस्टर से सामाजिक कार्यकर्ता बने लक्खा सिधाना के खिलाफ भी मामला दर्ज किया है। बुधवार को, एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए दिल्ली पुलिस कमिश्नर ने कहा कि पुलिस ने लाल किले की हिंसा को गंभीरता से लिया है और इसमें शामिल लोगों को बख्शा नहीं जाएगा। उन्होंने यह भी कहा कि हिंसा में शामिल लोगों की पहचान करने के लिए चेहरा पहचान प्रणाली का इस्तेमाल किया जाएगा।