इस बार कल यानी 30 नवंबर को विनायक चतुर्थी पड़ रही है जो भगवान गणेश की कृपा प्राप्त करने के लिए बेहद ही शुभ है। भगवान गणेश को सभी देवताओं में सर्वप्रथम पूज्य माना गया है। किसी भी प्रकार की पूजा या अनुष्ठान गणेश जी की पूजा के बिना सफल नही होता है। ऐसे में प्रत्येक काम के लिए सबसे पहले भगववान गणेश की कृपा प्राप्त करना जरूरी होता है। लेकिन विनायक चतुर्थी पर भगवान गणेश की पूजा करके बड़ी से बड़ी कठिनाईयों को आसानी से टाला जा सकता है।

विनायक चतुर्थी एवं शुभ मुहूर्त (vinayak chaturthi puja Muhurt)

चुतर्थी तिथि प्रारंभ- शाम 5 बजकर 40 मिनट (29 नवंबर)

चतुर्थी तिथि समाप्त- शाम 6 बजकर 5 मिनट (30 नवंबर)

शुभ मुहूर्त- सुबह 11 बजकर 20 मिनट से दोपहर 1 बजकर 33 मिनट

ऐसे करें भगवान गणेश की पूजा  (vinayak chaturthi puja)

- सुबह जल्दी उठकर स्नान करके लाल रंग के वस्त्र धारण करें और सूर्य भगवान को तांबे के लोटे से अर्घ्य दें।

- इसके बाद भगवान गणेश के मंदिर में एक जटा वाला नारियल और मोदक प्रसाद में चढ़ाएं।

- इसके बाद गणेश भगवान को गुलाब के फूल और दूर्वा अर्पण करें तथा ॐ गं गणपतये नमः मन्त्र का 27 बार जाप करें।

- दोपहर पूजन के समय अपने घर में सामर्थ्य अनुसार पीतल, तांबा, मिट्टी अथवा सोने या चांदी से निर्मित गणेश प्रतिमा स्थापित करें।

अब हम twitter पर भी उपलब्ध हैं। ताजा एवं बेहतरीन खबरों के लिए Follow करें हमारा पेज : https://twitter.com/dailynews360