जिले के 21 नं. पश्चिम कोकराझाड़ विधानसभा चुनाव क्षेत्र के चराईडाखा गांव से गुजरने वाली हेल नदी पर बांस का पुल बनाकर जनता ने हाग्रामा मोहिलारी को आदर्श बीटीसी बनाने के दावे को पूरी तरह से झुठला दिया। 12 गांवों के करीब 12 सौ लोगों ने मिलकर बांस के पुल का निर्माण किया। बीटीसी प्रमुख तथा बीपीएफ सुप्रीमो हाग्रामा मोहिलारी को शुरु से आदर्श बीटीसी बनाने का दावा कर रहें हैं, जो करीब 15 साल गुजर जाने के बाद भी पूरा नहीं हो पाया।

इसका ताजा प्रमाण है जनता द्वारा सामूहिक रुप से बांस के पुल का निर्माण करना। ज्ञातव्य हो कि कोकराझाड़ विधानसभा चुनाव क्षेत्र के चराईडाखा गांव तथा आस- पास के कुल 12 गांवों के करीब 12 सौ लोगों ने मिलकर सामूहिक रुप से हेल नदी पर बांस का पुल बनाया। गांव के लोगों का कहना है कि हेल नदी पर पुल बनवाने के लिए उन्होंने कई बार बीटीसी के लोक निर्माण विभाग के पास आवेदन किया, लेकिन आज तक कोई काम नहीं हुआ।

इस पुल का निर्माण होने से आस-पास के 12 गांवों के लोगों को फायदा होगा। पुल के न होने से लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता था। अंत में थक-हारकर लोगों ने अपने से हेल नदी पर पुल बनाने का फैसला किया। बांस के पुल बनाने के लिए आपस में पैसे इकट्ठा करके सभी ने पुल के निर्माण का काम शुरू किया। पुल का निर्माण दोतमा विधान परिषद के एमसीएलए जौमे वारी के नेतृत्व में किया जा रहा है। स्थानीय लोगों ने कहा कि इस पुल का अस्थाई रुप से निर्माण किया जा रहा है, लेकिन हमें आशा है कि सरकार यहां पर पक्के पुल का निर्माण कराएगी।