गुवाहाटी लोकसभा सीट से तीन बार लोकसभा पहुंच चुकीं 79 वर्षीय भाजपा की वरिष्ठ नेता विजया चक्रवर्ती ने यह प्रतिष्ठित सीट राज्य के स्वास्थ एवं वित्त मंत्री डा. हिमंत विश्व शर्मा के लिए छोड़ने का एेलान किया है। पार्टी में चल रही कयासबाजी के बीच रविवार को विजया ने कहा कि हिमंत युवा नेता हैं, वे गुवाहाटी से लड़ेंगे तो भारी मतों से जीतेंगे।


1999 में गुवाहाटी लोकसभा सीट से सांसद बनने के बाद वाजपेयी सरकार में जल संसाधन राज्य मंत्री का पदभार संभालने वाली विजया ने कहा ,"मैं सुनी हूं कि गुवाहाटी से हिमंत लोकसभा चुनाव लड़ेंगे। यदि एेसा होता है तो वे भारी मतों से जीत दर्ज करेंगे।" यह पूछे जाने पर कि क्या वे चुनाव लड़ने के लिए तैयार नहीं है तो गुवाहाटी से सांसद ने कहा कि यदि हिमंत बोलेंगे कि गुवाहाटी सीट छोड़ दे तो वे खुशी से छोड़ने को तैयार हो जाएंगी। लेकिन हाईकमान लड़ने के लिए कहेगा तो वे अभी भी लड़ने को तैयार हैं।
 2004 के लोकसभा चुनाव में भाजपा ने विजया का टिकट काट कर मशहूर गायक भूपेन हजारिका को गुवाहाटी से टिकट दे दिया। पार्टी यह सीट हार गई। उस समय माना गया कि हाईकमान ने विजया से मशविरा नहीं कर भूपेन हजारिका को टिकट दे दिया। जिससे विजया नाराज थी और उनकी नाराजगी पार्टी की हार का सबसे बड़ा कारण माना गया। बाद में 2009 और 2014 के चुनाव में विजया लगातार गुवाहाटी से चुनी गईं। लेकिन इस बार उम्र उनके टिकट मिलने में बाधक बन रही है।
 एेसा माना जा रहा है कि 75 वसंत पार कर चुके नेताओं को भाजपा अगले लोकसभा चुनाव में टिकट नहीं देने जा रही है। भाजपा की वरिष्ठ नेता ने अगले लोकसभा चुनाव में प्रदेश के 14 में से 9 सीट भाजपा को मिलने का दावा करते हुए कहा कि देश में मोदी की लहर अभी भी बरकरार है। पार्टी के नेताओं का कहना है कि उम्र के साथ विजया का स्वास्थ्य भी वैसा नहीं रहा और फिलहाल उनमें अब वो कूव्वत नहीं कि गुवाहाटी जैसे संसदीय क्षेत्रों का दौरा कर सकें।
 एेसे में किसी  बड़े नेता को गुवाहाटी से उतारना जरूरी है और उस सूची में हिमंत विश्व शर्मा का नाम सबसे उपर है। हालांकि कुछ दिन पहले एक निजी टेलीविजन चैनल में दिए साक्षात्कार में हिमंत ने गुवाहाटी से लोकसभा चुनाव लड़ने की बातों से इनकार कर दिया था। दूसरी तरफ गुवाहाटी से हिमंत विश्व शर्मा का चुनाव लड़ने की खबर के बाद कांग्रेस में भी हलचल है। पार्टी ने हिमंत के सामने मजबूत शख्स की खोज शुरू कर दी है ताकि कड़ी टक्कर दी जा सके।