भोपाल से 120 किलोमीटर दूर विदिशा जिले के गंजबसौदा में गुरुवार शाम को कुएं में गिरे लोगों को निकालने का रेस्क्यू ऑपरेशन शुक्रवार देर शाम खत्म हो गया। 24 घंटे तक चले ऑपरेशन में 20 लोगों को सुरक्षित बचा लिया गया जबकि 11 लोगों के शव कुएं से निकाले गए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दुर्घटना पर दुख जताते हुए मारे गए लोगों के परिवारों को प्रधानमंत्री राहत कोष से 2-2 लाख रुपये की राशि देने की घोषणा की है।

गुरुवार शाम करीब 6.30 बजे हादसे के कुछ देर बाद बचाव अभियान की शुरुआत हुई थी। जिस 10 साल के बच्चे को बचाने के लिए यह हादसा हुआ, उसका शव सबसे अंत में कुएं से निकाला गया। हादसे में बचाए गए सभी 20 लोगों को अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। सभी की हालत स्थिर बताई जा रही है। प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से ट्वीट में कहा गया कि विदिशा हादसे से वे बेहद दुखी हैं। मृतकों के प्रति संवेदना जताते हुए ट्वीट में कहा गया है कि प्रधानमंत्री राहत कोष से 2-2 लाख रुपये की सहायता राशि मृतकों के परिवारों को दी जाएगी।

गुरुवार शाम यह दुर्घटना तब हुई थी जब एक कुएं की मेड़ ढहने से 25 से ज्यादा लोग उसमें गिर गए थे। इसके तत्काल बाद लोगों को सुरक्षित निकालने के लिए राहत कार्य शुरू किया गया था। एनडीआरएफ और एसडीआरएफ के साथ स्थानीय पुलिस और प्रशासन की टीम बचाव कार्य में लगी थी। घटना के कुछ घंटे बाद विदिशा जिले के प्रभारी मंत्री विश्वास सारंग भी घटनास्थल पर पहुंच गए थे। वे अंत तक वहीं मौजूद रहे। सारंग ने रेस्क्यू ऑपरेशन खत्म होने के बाद इसमें शामिल लोगों की मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से बात करवाई। सीएम ने सभी को धन्यवाद दिया।

दूसरी ओर, हादसे को लेकर विपक्षी पार्टी कांग्रेस ने सरकार पर निशाना साधा है। पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने ने पुलिस और प्रशासन पर लापरवाही के आरोप लगाए है। उन्होंने ट्वीट कर कहा कि शिकायत मिलने पर पुलिस-प्रशासन सक्रिय हो जाता तो हादसा टल सकता था। उन्होंने राज्य सरकार से मृतकों के परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी और 15 लाख रुपया मुआवजा देने की मांग की है।