एटीएस ने धर्म परिवर्तन के मामले में एक और खुलासा किया है। एटीएस का दावा है कि मोहम्मद उमर गौतम का जो वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ है, वह मणिपुर का है। जिसे वर्ष 2017 में बनाया गया था। उस दौरान मोहम्मद उमर धर्म परिवर्तन कराने के लिए मणिपुर में कई आयोजनों में शामिल हुआ था।

इस वीडियो में ही उसने छत्रपति शाहूजी महाराज यूनिवर्सिटी की छात्रा सुप्रिया का धर्म परिवर्तन करने का जिक्र किया है। कहा है कि सुप्रिया इस्लाम अपनाकर आयशा बन गई है। एटीएस सूत्रों का दावा है कि मोहम्मद उमर चार साल पहले मणिपुर गया था। वहां संगठन के लोगों और धर्म गुरुओं से मुलाकात कर धर्म परिवर्तन कराने वालों और मूक बधिर बच्चों के बारे में जानकारी ली थी।

मोहम्मद उमर मूक बधिर बच्चों को इस्लाम के बारे में जानकारी देने के लिए चार साइन लैंग्वेज के एक्सपर्ट की मदद ले रहा था। वह आदित्य उर्फ अब्दुल से पहले भी कई मूक बधिर बच्चों को जाल में फांस चुका है। एटीएस सूत्रों के अनुसार मोहम्मद उमर ने मणिपुर में भी आधा दर्जन मूक बधिर बच्चों को धर्म परिवर्तन के लिए मना लिया था। उन लोगों ने धर्म परिवर्तन किया कि नहीं, इसके बारे में एटीएस जानकारी जुटा रही है। साथ ही साइन लैंग्वेज के चारों एक्सपर्ट की भी तलाश में जुट गई है।