इस समय तकनीक बहुत तेजी से एक वर्चुअल दुनिया की ओर बढ़ रही है। आज के समय में लगभग हर काम और मनोरंजन भी, सब कुछ ऑनलाइन हो रहा है। इसके साथ ही वीडियो गेम्स खेलने का चलन भी काफी बढ़ा है। अब आने वाले समय में गेमर्स को, वीडियो गेम्स की कंपनियां ये गेम्स खेलने के लिए पैसे देंगी।

अभी तक गेमर्स को या तो वीडियो गेम्स को खरीदना पड़ता है या फिर उसके कुछ फीचर्स को इस्तेमाल करने के लिए पैसे देने होते हैं। मतलब ये है कि अभी यूजर्स को अपने मनपसंद गेम्स को खेलने के लिए पैसे देने पड़ते हैं।

लेकिन ऐलेक्सिस ओहेनियन ने ‘वेयर इट हैपेन्स’ नाम के पॉडकास्ट में ये कहा है आने वाले सालों में ऑनलाइन सर्विसेज और प्लेटफॉर्म्स का इस्तेमाल करने वाले 90 फीसदी लोग डीसेंट्रेलाइज्ड ऑटोनॉमस ऑर्गेनाइजेशन या DAO का हिस्सा होंगे।

ऐलेक्सिस ओहेनियन के मुताबिक आने वाले समय में, वीडियो गेम्स के मामले में प्ले टू अर्न गेम्स का बोलबाला होगा। ऐसा इसलिए होगा क्योंकि जब अपना समय खेलने में लगाएंगे तो उनकी कोशिश रहेगी कि उस समय के बदले उन्हें पैसे दिए जाएं।

अब माना जा रहा है कि आने वाले समय में गेमिंग इंडस्ट्री एक बेहद बड़ी इंडस्ट्री बनेगी। इसके साथ ही इसके सेल्स का आंकड़ा हॉलीवुड और म्यूजिक इंडस्ट्री की कम्बाइन्ड सेल्स को पार कर जाएगा।