घूमने के लिए कुदरती नजारों की बात करें तो केरला पर प्रकृति पूरी तरह से मेहरबान हैं। पर्यटक यहां आकर एक साथ कई स्‍थानों पर सैर करके दुनिया के सबसे सुंदर प्राकृतिक नजारों को देख सकते हैं। यहां रेतीले तटों की सैर, बैकवॉटर्स, हिल स्‍टेशन के साथ-साथ अनगिनत धार्मिक स्‍थल देखने को मिलते है। इसलिए आप जब कभी भी केरल जाएं तो इन जगहों पर जरूर घूमें।

 

मुन्नार

केरल में मुन्नार एक हिल स्टेशन है। यहां चाय के बागान दूर-दूर तक फैले हैं। यहां नीलकुरुंजी, प्रपात और बांध यहां की खूबसूरती में चार चांद लगाते हैं। ट्रैकिंग और बाइकिंग के लिए भी यह जगह बहुत मशहूर हैं।

एराविकुलम नेशनल पार्क

केरल में मुन्नार से कुछ दूरी पर इरविकुलम नैशनल पार्क है। यहां से आप नीलगिरि टार को पास से देखने का मजा ले सकते हैं। यहां आपको चीता, सांभर, बार्किंग डियर, मलबार खरगोश जैसे कई तरह के जंगली जीव भी दिखाई देंगे। साथ ही यहां 12 वर्षों में एक बार खिलने वाला नीलकुरुंजी नामक पौधा यहां की खासीयत है। यह स्थानीय पौधा जब पहाड़ों की ढलान पर पनपता है तो पहाड़ नीली चादर में लिपटा दिखाई देता है।

 

माट्टुपेट्टी 

रोज गार्डन, हरीभरी घास के मैदान, बड़ी-बड़ी गाएं यहां की खासीयत हैं। मरयूर, चिन्नार वन्यजीव अभयारण्य, देवीकुलम चिलिरपुरम, चीत्वारा, मीनूली, आनमुड़ी राजमला यहां के ही इलाके हैं जोकि टूरिस्टों के घूमने के लिए बहुत अच्छे हैं।

 

कोवलम

कोवलम में आप कोवलम बीच, द लाइटहाउस बीच और हवाह बीच का आनंद ले सकते हैं। यहां लोग सन बाथ, स्विमिंग, क्रूजिंग और केरला की मशहूर आयुर्वेदिक बॉड़ी मसाज का लुत्फ उठाते हैं। यहां के सन सैट का नजारा देखने के लिए लोगों की भीड़ लगती है।

 

चित्रा आर्ट गैलरी 

चित्रा आर्ट गैलरी में चीन, जापान, तिब्बत की पेंटिंग्स यहां देखने को मिलती हैं। यहां पर रवि वर्मा, रियोरिक पेंटिंग्स के अलावा राजपूत, मुगल, तंजावूर स्कूल की पेंटिंग्स का अच्छा संकलन है।

 

 अलप्पुझा

अलप्पुझा बीच पर्यटकों की पसंदीदा जगहों में से एक है। यह बोट रेस बैकवाटर टूरिज्म, कौपर बिजनेस, समुद्री उत्पाद के लिए भी यह शहर मशहूर है। यहां समुद्र के बीच पोनघाट लगभग 137 साल पुराना है। यहां पास ही एक पुराना लाइट हाउस भी है।

 

पातिरामनल 

यह छोटा सा खूबसूरत आयलैंड है। यह 'सैंड औफ मिडनाइट' के नाम से भी जाना जाता है। यहां आप दुर्लभ पक्षियों को भी देख सकते हैं।

 

कुट्टनाड

यहां पर समुद्रतल से भी नीचे खेती की जाती है। इसे केरल का 'राइस बाउल' भी कहते हैं। यहां की खास फसल धान है।

 

थेक्कड़ी

थेक्कड़ी यहां का सबसे खास पर्यटन स्थल है। यहां तरह-तरह के वन्यजीव देखे जा सकते हैं। इस झील में बोट में सैर कर के जंगली जीवो को करीब से देखने का मौका  मिलता है। झील के आस-पास हाथियों के टहलने का अनोखा नजारा यहां पर देखने को मिलता है।

 

कुट्टिकानम

कुट्टिकानम हिल स्टेशन का ठंडा और खूबसूरत मौसम पर्यटकों को भी यहां बार-बार आने के लिए मजबूर करता है।

 

कोच्चि

यह इस राज्य की व्यापारिक राजधानी है। कोच्चि दुनियां की सबसे पुरानी बंदरगाहों में एक है। यह 'अरब सागर की रानी' के नाम से भी प्रसिद्ध है। पैलेस, किले, झील,पारंपरिक नृत्य, ऐतिहासिक स्मारक, ऊंची इमारतें कोच्चि की खासीयत हैं।