नई दिल्ली। उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह समेत कई नेताओं ने बुधवार को जालियांवाला बाग हत्याकांड की बरसी के मौके पर इस नरसंहार का शिकार हुए शहीदों को श्रद्धांजलि दी। नायडू ने शहीदों को श्रद्धांजलि देते हुए कहा, 'हम अपनी मातृभूमि की स्वतंत्रता के लिए उनके सर्वोच्च बलिदान के लिए उनके सदा ऋणी हैं। 

आज ही के दिन, 1919 में अमृतसर के जलियांवाला बाग में शहीद हुए भारतीयों की स्मृति में सादर श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं। जलियांवाला बाग हत्याकांड इतिहास के जघन्यतम मानवाधिकार अपराधों में है जिसने उधमसिंह जैसे युवाओं को विदेशी शासन के निर्दय चरित्र के विरुद्ध जागृत किया।'

यह भी पढ़े : चीन की शरण में जाएंगे शहबाज शरीफ, पहली विदेश यात्रा पर सऊदी अरब और चीन की यात्रा करने की उम्मीद


नायडू ने कहा कि हम अपने स्वतंत्रता सेनानियों को सबसे अच्छी श्रद्धांजलि एक ऐसे भारत का निर्माण कर सकते हैं, जिसकी उन्होंने कल्पना की थी। श्री मोदी ने ट्वीट कर कहा, 'आज के दिन 1919 में जलियांवाला बाग में शहीद हुए लोगों को श्रद्धांजलि। उनका अद्वितीय साहस और बलिदान आने वाली पीढिय़ों को प्रेरित करता रहेगा।' 

शाह ने शहीदों को नमन करते हुए कहा, 'देश की आजादी के लिए उनका बलिदान आने वाली पीढिय़ों को प्रेरित करता रहेगा।' भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा ने कहा, 'जलियांवाला बाग हत्याकांड का भारतीय स्वतंत्रता संग्राम पर सबसे अधिक प्रभाव पड़ा। मैं सभी शहीदों को श्रद्धांजलि देता हूं। हम उनके बलिदान को कभी नहीं भूल सकते।' 

यह भी पढ़े : इन 3 राशि वालों के नौकरी में स्थान परिवर्तन के बन रहे हैं योग,  29 अप्रैल तक तरक्की भी मिल सकती है 


कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने कहा, '103 साल पहले, जलियांवाला बाग में हुए नरसंहार ने दुनिया को एक निरंकुश शासन की क्रूरता दिखाई। साहसी शहीदों को विनम्र श्रद्धांजलि।' कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष ने कहा कि उनका सर्वोच्च बलिदान पीढिय़ों को अन्याय के खिलाफ लडऩे के लिए प्रेरित करता रहा है।