टीके की सीमित आपूर्ति को देखते हुए दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य विभाग ने 31 जुलाई तक सभी सरकारी टीकाकरण केंद्रों पर कोविशील्ड के टीके की सिर्फ दूसरी खुराक देने का फैसला किया है।

 दिल्‍ली के सरकारी टीकाकरण केंद्रों पर कोविशील्‍ड की कमी हो गई है। इसके चलते सरकार ने इस महीने के लिए कोविशील्‍ड वैक्‍सीन को पूरी तरह से दूसरी डोज के लिए रिजर्व रख लिया है। ये वैक्‍सीन 18 से 45 साल के उन लोगों को लगाई जाएंगी जिन्‍हें मई में पहली डोज दी गई थी और अब उनकी दूसरी डोज का समय हो चुका है।

परिवार कल्‍याण विभाग की निदेशक डॉ. मोनिका राणा ने बताया कि 18 से 44 साल की उम्र के लोगों के लिए कोरोना का टीकाकरण 1 मई को शुरू हुआ था। 84 दिन के अंतर पर कोविशील्‍ड की दूसरी डोज दी जानी है। लिहाजा पहली डोज ले चुके कई लोगों के लिए अगले हफ्तों में दूसरी डोज का समय आ जाएगा। ऐसे में वैक्‍सीन की सीमित आपूर्ति को देखते हुए 31 जुलाई तक इसकी सारी खुराकों को दूसरी डोज के लिए आरक्षित रख लिया गया है। दिल्‍ली में जुलाई महीने में टीकाकरण की रफ्तार सुस्त रही। इसकी वजह सरकारी टीकाकरण केंद्रों पर कोविशील्‍ड वैक्‍सीन की सीमित उपलब्‍धता है।

इस महीने में सिर्फ दो बार ऐसा हुआ जब राज्‍य में एक लाख से ज्‍यादा लोगों को टीके लग सके। कुछ दिनों में तो टीकाकरण का आंकड़ा दस हजार तक सीमित रह गया। 21 जून के बाद टीकाकरण नीति में बदलाव के साथ ही दिल्‍ली में टीकाकरण में काफी तेजी देखी गई थी। तीन दिन यह दो लाख के आंकड़े को पार कर गया था। तब सरकार 45 साल से ऊपर के लोगों के लिए स्‍टॉक की गई वैक्‍सीन का भी इस्‍तेमाल कर पा रही थी। इसके पहले केंद्र सरकार द्वारा उपलब्‍ध कराई गई वैक्‍सीन सख्‍ती से 45 साल के ऊपर के लोगों के लिए ही इस्‍तेमाल की जा रही थी। जबकि 18 से 45 साल की उम्र वालों के लिए राज्‍य सरकार अलग-अलग दरों पर वैक्‍सीन खरीद रही थी।