कई बार हम कई तरह की चीजें देखते हैं तो मन में तरह-तरह के सवाल आते है लेकिन इसके जवाब जाने बिना ही हम आगे बढ़ जाते हैं। ऐसी ही एक चीज दवा के कई पत्तों में ढेर सारे खाली खोखे होना है। इन खोखों में दवाई नहीं होती फिर भी दवाई के पत्तों पर ये बने होते हैं। क्या आप जानते हैं कि आखिर इन्हें क्यो बनाया जाता है?  दुनिया भर के हर घर में दवाईयां मिल जाएंगी लेकिन इस सवाल का जवाब बहुत ही कम लोगों के पास होता है।

यह भी पढ़ें : उच्च न्यायालय ने CM हिमंत बिस्वा सरमा के खिलाफ आदर्श आचार संहिता उल्लंघन मामले को खारिज किया

दरअसल इसे दवाई को टूटने फूटने से बचाने के लिए बनाया जाता है। दवाई बनने के बाद कई जगह ट्रांसपोर्ट होती है। ऐसे में एक्पोर्ट-इम्पोर्ट के दौरान दवाइयों को ज्यादा प्रेशर से बचाने और टूट—फूट से सुरक्षित रखने के लिए दवाओं में खाली खोखे बने रहते हैं।

तमाम दूसरे सामानों की पैकिंग की तरह इन दवाईयों की भी ऐसी पैकिंग की जाती हैं कि जब उसपर कोई दबाव आए भी तो उसका सारा डैमेज उन खाली खोखों के ज़िम्मे रह जाए और दवाएं सुरक्षित रह जाएं। हालांकि बहुत सी दवाएं ऐसी भी होती हैं जिनमें ये खाली जगह नहीं भी होती है।

यह भी पढ़ें : BJP ने 'असामाजिक गतिविधियों' में कथित संलिप्तता के लिए नलबाड़ी से 2 सदस्यों को किया निलंबित

सुरक्षा के अलावा एक और वजह भी होती है कि जिनकी वजह से इन खाली खोखों की आवश्यता बढ़ जाती है और कुछ परिस्थितियों में फायदा होता है। जैसे- कई बार लोगों को दवा के पूरे पत्ते की ज़रूरत नहीं होती। ऐसे में कई बार पत्ता काटने पर गोलियां के कवर वाले हिस्से पर कट लगने से वो खराब हो जाता है। ऐसे में ये खाली खोखे बड़ा काम आते हैं।