चीन पर मानव अंगों की कालाबाजारी (black marketing of human organs) करने का आरोप लगते रहे हैं। एक रिपोर्ट के मुताबिक करीब डेढ़ लाख लोगों को यहां जबरन कैद कर रखा गया है। कैद के दौरान जबरन उइगर मुसलमानों (Uyghur organs) के शारीरीक अंग जबरन निकाले जा रहे हैं और उनकी नसबंदी भी की जा रही है। 

रिपोर्ट में अनुमान लगाया गया है कि यहां एक साल में 1 अरब डॉलर के अंगों की ब्लैक मार्केटिंग (black marketing of human organs) की गई है। जानकारी के मुताबिक चीन में इस अल्पसंख्यक समुदाय (Minority community in china) को कड़ी निगरानी में रखा गया है। इन पर सीसीटीवी कैमरों से हर वक्त कड़ी नजर रखी जाती है। जिस इलाके में यह रहते हैं उस इलाके से इन्हें निकलने तक की मनाही है।

खबरों के मुताबिक इन कैदियों की बुरी तरह पिटाई की जाती है। इस तरह मारपीट करके इनसे झूठे जुर्म भी कबूलवाए जा रहे हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि इन अल्पसंख्यकों (Minority community) की आबादी को रोकने के लिए महिलाओं की नसबंदी (female sterilization) भी व्यापक पैमाने पर कराई जा रही है। रिपोर्ट के मुताबिक साल 2017 से 2019 के बीच करीब 80,000 उइगर मुसलमानों को देश के विभिन्न फैक्ट्रियों में तस्करी कर ले जाया गया। घर से दूर इन फैक्ट्रियों में इन्हें अलग-अलग रखा जाता है।