इस समय मोबाइल एप से ठगी का एक ऐसा मामला सामने आया है जो चौंकाने वाला है। उत्तराखंड पुलिस ने एक बड़ी ठगी का खुलासा किया है। पुलिस एक आरोपी को 250 करोड़ रुपये की ठगी मामले में गिरफ्तार किया है। हैरान करने वाली बात यह है कि ये ठगी मात्र 4 महीने के अंतराल में की गई।

चीन की स्टार्टअप योजना के तहत बने ऐप से ठगी को अंजाम दिया गया। देश के करीब 50 लाख लोगों द्वारा इस ऐप को डाउनलोड किया जा चुका है। इस ऐप के जरिये लोगों को 15 दिन में पैसे डबल होने का लालच दिया जाता था।

ठगी में 15 दिन में पैसा दोगुने करने के लिए पहले लोगों से पॉवर बैंक ऐप को डाउनलोड करने को कहा जाता था जिसके बाद उनसे 15 दिन में पैसे डबल होने का लालच दिया जाता था।

पूरे मामले का खुलासा कुछ इस तरह हुआ कि जब हरिद्वार निवासी ने पुलिस में सूचना दी कि एक "पावर बैंक ऐप" से पैसे दोगुने करने के लिए दो बार क्रमशः 93 हजार और 72 हजार जमा किए थे जिसने 15 दिन में डबल होने के लिए कहा गया था।

लेकिन ऐसा नहीं होने पर पीड़ित ने पुलिस थाने में शिकायत दर्ज कराई जिस पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर छानबीन शुरू की। जांच में पाया गया कि सभी धनराशि अलग-अलग खातों में ट्रांसफर की गई थी। जब वित्तीय लेन देन का अध्ययन किया गया तो पुलिस के हाथ 250 करोड़ की ठगी सामने आई।

उत्तराखंड एसटीएफ के एसएसपी अजय सिंह ने बताया कि पुलिस की जांच में एक बड़ी बात सामने आई कि ठगी करने वाले विदेशी निवेशकों द्वारा भारत के बिजनेसमैन को कमीशन का लालच देकर एक ऐप के जरिये लोगों को लोन देने की बात करते थे।

बाद में इसमें बदलाव कर लोगों को पैसे दोगुने करने का लालच देकर पैसे निवेश किया जाने लगा। पैसा एक ही खाते में डलवाकर भारत के लोगों के खातों में डलवाया गया। शुरुआत में कुछ लोगों का पैसा वापस भी दिया गया।