उत्तराखंड में आई त्रासदी से बुरी तरह प्रभावित हुए चमोली जिले में चल रहे बचाव कार्य के दौरान 5 और शव बरामद किए गए हैं। त्रासदी में मारे गए इन लोगों के शव एनडीआरएफ और एसडीआरएफ के लोगों को शनिवार की शाम के बाद से अब तक मिले हैं। पुलिस के शीर्ष अधिकारियों ने कहा है कि ये शव तपोवन बांध की ओर मिले हैं।

पानी और कीचड़ के कारण तपोवन प्रोजेक्ट की सुरंग के अंदर खुदाई का काम धीमी गति से हो रहा है। यहां मलबे में दबे 13 लोगों के शव बरामद हो चुके हैं। सुरंग में 166 मीटर तक खुदाई हो चुकी है। इसके अलावा सुरंग से लगातार पानी भी बाहर निकाला जा रहा है। 7 फरवरी को ग्लेशियर टूटने से आई बाढ़ में करीब 204 लोग लापता हो गए। इनमें से 67 शव अब तक बरामद हो चुके हैं। 

बचाव कर्मी सुरंग के अंदर और रैणी गांव में ऋषिगंगा प्रोजेक्ट के पास काम कर रहे हैं। रैणी गांव में शवों को ढूंढने के लिए स्निफर डॉग्स की भी मदद ली जा रही है। इसके अलावा नदियों में भी लापता लोगों की खोज की जा रही है। त्रासदी के बाद सेना और आईटीबीपी के जवान भी बचाव कार्य में कई दिनों तक जुटे रहे लेकिन अब केवल एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की टीमें बचाव कार्य चला रही हैं।