उत्तराखंड के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने अपना इस्तीफा बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा को भेज दिया है।  वहीं दूसरी तरफ राज्यपाल श्रीमती बेबी रानी मौर्य से मुलाकात का समय मांगा है।  हो सकता है कि नए सीएम की रेस में सतपाल महाराज, रेखा खंडूरी, पुष्कर सिंह धामी और धन सिंह रावत शामिल हो सकते हैं।  अगले साल राज्य में विधानसभा चुनाव भी हैं। 

सीएम तीरथ सिंह रावत ने अपना इस्तीफा बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा को खत के जरिए जनप्रतिनिधि कानून की धारा 191 ए के तहत भेजा है।  राज्य के नए मुख्यमंत्री के रूप में शपथ लेने के 6 महीने के अंदर पद से इस्तीफा देने की पेशकश की है। 

सूत्रों का कहना है कि तीरथ सिंह रावत ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा को एक पत्र लिखा है, जिसमें उन्होंने राज्य में संवैधानिक संकट से बचने के लिए इस्तीफा देने की पेशकश की है।  मैं 6 महीने के अंदर दोबारा नहीं चुना जा सकता।  ये एक संवैधानिक बाध्यता है।  इसलिए अब पार्टी के सामने मैं अब कोई संकट नहीं पैदा करना चाहता और मैं अपने पद से इस्ताफा दे रहा हूं।  आप मेरी जगह किसी नए नेता का चुनाव कर लें। 

जानें क्या है संवैधानिक संकट

बता दें कि तीरथ सिंह रावत ने 10 मार्च को त्रिवेंद्र सिंह रावत की जगह उत्तराखंड के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली थी।  शपथ लेने के वक्त तीरथ सिंह रावत उत्तराखंड विधानसभा में निर्वाचित विधायक नहीं थे।  बल्कि पौड़ी गढ़वाल का प्रतिनिधित्व करने वाले लोकसभा सांसद थे।  वह वर्तमान में लोकसभा सांसद बने हुए हैं, लेकिन 6 महीने के अंदर विधानसभा या विधान परिषद का सदस्य होना जरूरी है।  ऐसे में राज्य में विधान परिषद नहीं है और अगले साल चुनाव हैं। 

कौन हो सकता है अगला सीएम

रावत के इस्तीफे को स्वीकार कर लिया जाता है तो धन सिंह रावत, सतपाल महाराज, रेखा खंडूरी, पुष्कर सिंह धामी जैसे नेताओं का नाम रेस में है।  जिनमें से किसी एक को सीएम बनाया जा सकता है।