भारत एक ऐसा देश है जो रहस्यों से भरा हुआ है। यहां अलग-अलग राज्यों में कई ऐसे मंदिर हैं जो अपने आप में ऐसे रहस्य समेटे हुए हैं जिनका पता आज तक कोई भी नहीं लगा पाया है। इन रहस्यों को देखकर विदेशी भी हैरान हो जाते हैं। रहस्यों से भरे मंदिरों की बात हो तो इसमें कानुपर का भगवान जगन्नाथ मंदिर भी शामिल होता है। इस मंदिर का सबसे बड़ा रहस्य बारिश को लेकर इसकी भविष्यवाणी करना है।

यह भी पढ़े : बजरंगबली की इन 3 प्रिय राशियां पर सावन के आखिरी मंगलवार को होगी हनुमान जी की विशेष कृपा

उत्तर प्रदेश के कानपुर स्थित बेहटा गांव में भगवान जगन्नाथ का एक मंदिर स्थित है। यह भीतरगांव विकासखंड से महज 3 किलोमीटर की दूरी पर है। यह मंदिर काफी मशहूर है और यहां दूर-दूर से लोग दर्शन करते आते हैं। बताया जाता है कि यह मंदिर बारिश की भविष्यवाणी पहले ही कर देता है। इस मंदिर के आसपास रहने वाले लोगों का कहना है कि बारिश होने के 6-7 दिन पहले से ही इस मंदिर की छत से पानी की बूंदें टपकने लगती हैं। लोग बताते हैं जिस साइज की बूंद होती है, उसी तरह की बारिश होती है।

यह भी पढ़े : राशिफल 9 अगस्त : आज सावन का आखिरी मंगलवार, इन राशि वालों बरसेगी भोलेनाथ के साथ बजरंगी बली की कृपा

इस मंदिर का रहस्य बारिश की भविष्यवाणी करके ही खत्म नहीं होता। लोगों ने बताया कि जैसे-जैसे बारिश खत्म होती जाती है, वैसे-वैसे मंदिर की छत अंदर से पूरी तरह सूख जाती है। यहां के बुजुर्ग कहते हैं कि मंदिर के बारे में आज तक कोई भी ये नहीं बता पाया है कि ये कितने साल पुराना है। मंदिर के अंदर भगवान जगन्नाथ की मूर्ति है। इस मूर्ति में आप भगवान श्री हरि विष्णु के 24 अवतार देख सकते हैं। इन 24 अवतारों में कलियुग में अवतार लेने वाले कल्कि भगवान की भी मूर्ति मंदिर में मौजूद है। इस मंदिर के गुंबद पर एक चक्र लगा हुआ है जिसकी वजह से आज तक मंदिर और इसके आसपास आकाशीय बिजली नहीं गिरी है।