उत्तर प्रदेश सरकार ने अयोध्या में राम जन्मभूमि मंदिर परिसर के आसपास शराब की बिक्री पर प्रतिबंध लगाने का आदेश दिया है। यूपी के आबकारी मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) नितिन अग्रवाल ने कहा कि राम मंदिर क्षेत्र की सभी शराब की दुकानों के लाइसेंस रद्द कर दिए गए हैं। संत और साधु धार्मिक स्थलों के आसपास शराब और मांस की बिक्री पर पूर्ण प्रतिबंध लगाने की मांग कर रहे हैं। मुख्यमंत्री पहले ही मथुरा-वृंदावन क्षेत्र में मांस की बिक्री पर रोक लगाने के आदेश दे चुके हैं।

ये भी पढ़ेंः आखिरकार आजम खान से मिलने अस्पताल पहुंचे अखिलेश यादव, कपिल सिब्बल भी मौजूद रहे


बता दें कि आज मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राम मंदिर के गर्भगृह में फाउंडेशन स्टोन रखा। इस मौके पर उन्होंने कहा कि राम मंदिर देश का राष्ट्रीय मंदिर होगा। लोग इस दिन का लंबे समय से इंतजार कर रहे हैं और यह देश की एकता का प्रतीक होगा। उन्होंने कहा कि मंदिर के निर्माण का कार्य सफलतापूर्वक आगे बढ़ रहा है।

ये भी पढ़ेंः बिहार में आज शाम बड़ा फैसला ले सकती है नीतीश कुमार सरकार, बुलाई सर्वदलीय बैठक


विश्व हिंदू परिषद के नेता शरद शर्मा के मुताबिक राम मंदिर का गर्भगृह लाल पत्थरों का होगा जो बहुत शुभ है। ट्रस्ट के मुताबिक मंदिर का गर्भगृह जनवरी 2024 की मकर संक्रांति तक पूरा हो जाएगा जहां भगवान राम की मूर्ति स्थापित की जाएगी। राम मंदिर के मुख्य पुरोहित आचार्य सत्येंद्र दास के मुताबिक मंदिर का निर्माण इस तरीके से किया जा रहा है ताकि सुबह सूर्य की पहली किरण भगवान राम की मूर्ति पर पड़े। पीएम मोदी ने करीब दो साल पहले 5 अगस्त 2020 को अयोध्या के राम मंदिर की नींव रखी थी और तब से मंदिर के निर्माण का काम लगातार जारी है।