उत्तर प्रदेश स्पेशल टास्क फोर्स (यूपीएसटीएफ) की वाराणसी यूनिट ने खूंखार गैंगस्टर मनीष सिंह उर्फ सोनू को मुठभेड़ में मार गिराया है। सोनू के खिलाफ 32 आपराधिक मामले लंबित हैं और उनके सिर पर 2 लाख रुपये का नकद इनाम था। वह वाराणसी, मिर्जापुर, चंदौली, जौनपुर, सीतापुर और शाहजहांपुर जिला पुलिस द्वारा वांछित था।

ये भी पढ़ेंः LPG Price: बढ़ती महंगाई के बीच सस्ता हुआ एलपीजी सिलेंडर, चेक करें नया रेट


मुठभेड़ उस वक्त हुई जब एसटीएफ की एक टीम ने वाराणसी के लोहटा पुलिस सर्कल में बनकटा के पास उसे रोकने की कोशिश की। उसे अपने सहयोगी के साथ मोटरसाइकिल की सवारी करते देखा गया।एसटीएफ के अतिरिक्त महानिदेशक (एडीजी) अमिताभ यश ने कहा, जब पुलिस ने उसे आत्मसमर्पण करने के लिए कहा तो उसने गोलियां चला दीं। जवाबी फायरिंग में मनीष को गोली लगी, जबकि उसका सहयोगी भागने में सफल रहा। उन्होंने कहा, मनीष को अस्पताल ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने उसे ‘मृत’ घोषित कर दिया। हम उसके सहयोगी की तलाश कर रहे हैं। 

ये भी पढ़ेंः यूक्रेन पर रूसी सेना का कहर जारी, अब कीव में शॉपिंग सेंटर के पास किया हमला, कर दिया ऐसा बुरा हाल


एडीजी ने कहा कि मनीष मिर्जापुर की एक कंपनी के महाप्रबंधक और वाराणसी के जाने-माने पत्रकार एनपी तिवारी की हत्या में वांछित था। मनीष के पास से एसटीएफ ने एक कार्बाइन और कई जिंदा कारतूस बरामद किए हैं। एसटीएफ मनीष पर तब से ध्यान केंद्रित कर रहा था जब से उसके करीबी सहयोगी रोहित सिंह सनी, रोहित गुप्ता किट्टू और दीपक वर्मा को हाल के महीनों में एसटीएफ द्वारा हटा दिया गया था।

फोटो साभारः UPSTF Twitter page