वाशिंगटन। अमेरिका के रक्षा मंत्रालय ने कहा कि इस सप्ताह जर्मनी के स्पैंगडाहलेम एयर बेस पर पहुंचने वाले नौसेना के छह ईए-18जी ग्रोलर विमानों का इस्तेमाल यूक्रेन में रूस के विरूध नहीं किया जाएगा। इसका उपयोग नाटो के पूर्वी मोर्चे को मजबूत करने के लिए किया जाएगा। 

मणिपुर से जल्द हट सकता है AFSPA , चुनाव से पहले बीरेन सिंह ने किया था वादा

पेंटागन के प्रेस सचिव जॉन किर्बी ने सोमवार को जारी प्रेस विज्ञप्ति में कहा, 'उन्हें यूक्रेन में रूस की सेना के विरूध इस्तेमाल के लिए तैनात नहीं किया जा रहा है। उन्हें पूरी तरह से पूर्वी मोर्चे पर नाटो की प्रतिरोधक क्षमता तथा रक्षा क्षमताओं को बढ़ाने के हमारे प्रयासों को ध्यान में रखते हुए तैनात किया जा रहा है। 

Hanuman Chalisa के ये उपाय आपको बना देंगे करोड़पति , मेष से लेकर मीन राशि तक वाले जरूर अपनाएं ये टोटका

किर्बी ने कहा कि द ग्रोलर यूएस एफ-18 सुपर हॉर्नेट फाइटर जेट का एक विशेष संस्करण है यह दुश्मन के राडार को चकमा देने वाले जैमिंग सेंसर के एक सेट का उपयोग करके इलेक्ट्रॉनिक युद्ध मिशन की उड़ाने के लिए सुसज्जित है। जो कि दुश्मन के वायु रक्षा अभियानों को दबाने की क्षमता में मदद करता है। उन्होंने कहा कि जर्मनी में पायलट और रखरखाव दल के करीब 240 नौसेनिक तैनात रहेंगे।