हिंदुओं के सामने अब अमेरिका जैसा महाशक्तिशाली देश भी झुक गया है। जी हां, अमेरिका की वायु सेना में अब हिंदू सेनिक तिलक लगाकर ड्यूटी कर सकेंगे। भारतीय मूल के सेनिकों को ड्यूटी के दौरान तिलक लगाने की अनुमति दे दी गई है। व्योमिंग में एफई वॉरेन एयर फ़ोर्स बेस पर तैनात अमेरिकी वायु सेना के एक वायुसैनिक दर्शन शाह को ड्यूटी के दौरान तिलक लगाने की अनुमति देते हुए धार्मिक छूट दी गई है। वह दो साल से इसकी मांग कर हे थे। उनकी इस मांग का ऑनलाइन ग्रुप चैट के माध्यम से दुनिया भर से समर्थन मिला। 22 फरवरी, 2022 को उन्हें पहली बार वर्दी के साथ तिलक लगाने की अनुमति दी गई थी।

यह भी पढ़ें : सरकार को अरूणाचल में बड़ी कामयाबी, एक ही झटके में सरेंडर करवाई 2000 से अधिक एयर गन

शाह ने कहा कि कहा, "टेक्सास, कैलिफोर्निया, न्यू जर्सी और न्यूयॉर्क के मेरे दोस्त मुझे और मेरे माता-पिता को संदेश भेज रहे हैं कि वे बहुत खुश हैं कि वायु सेना में ऐसा कुछ हुआ।" उन्होंने कहा, "यह कुछ नया है। यह कुछ ऐसा है जिसके बारे में उन्होंने पहले कभी नहीं सुना था। यह सोचा भी नहीं जा सकता था, लेकिन ऐसा हुआ।"

शाह का पालन-पोषण मिनेसोटा के ईडन प्रेयरी में एक गुजराती परिवार में हुआ था। यह परिवार बोचासनवासी अक्षर पुरुषोत्तन स्वामीनारायण संस्था यानी बीएपीएस की देखरेख करता है। इस संप्रदाय का धार्मिक प्रतीक चंदन है, जो नारंगी रंग के यू-आकार के तिलक से घिरा हुआ होता है।

यह भी पढ़ें : अरूणाचल की बेटियों ने किया नाम रोशन, राष्ट्रीय राफ्टिंग चैंपियनशिप में जीता सिल्वर

जून 2020 में बुनियादी सैन्य प्रशिक्षण शुरू करने के बाद से वह उन्हें तिलक चांदलो को वर्दी के साथ लगाने की अनुमति देने के लिए छूट की मांग कर रहे थे। उन्होंने अपनी छूट की स्थिति पर अपडेट के लिए मासिक आधार पर एयर फ़ोर्स ग्लोबल स्ट्राइक कमांड के व्यक्तिगत कार्यक्रमों के अधीक्षक के साथ जांच की, जब तक कि इसे स्वीकार नहीं किया गया।