बिहार की सत्तारुढ़ पार्टी जनता दल यूनाईटेड संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा पटना दिल्ली एम्स से इलाज करवाकर पटना लौट आए हैं. पटना में मीडिया से बातचीत के दौरान उनके बयान से बिहार की राजनीति में हड़कंप मच गया है और तरह-तरह के कयास लगाए जाने लगे हैं. मीडिया से बात करते हुए उपेन्द्र कुशवाहा ने कहा कि जेडीयू के जितने बड़े नेता हैं, वो सभी भाजपा के संपर्क में हैं. उन्होंने कहा कि भाजपा नेताओं से मुलाकात को लेकर मुझ पर जो सवाल उठ रहे है, वो समझ से परे है, मैं तो लगातार जदयू को मजबूत करने में लगा हुआ हूं, क्योंकि पार्टी लगातार कमजोर हो रही. लेकिन, लोग इसका गलत मतलब निकाल रहे हैं.

पूर्व मुख्यमंत्री बिप्लब देब ने किया दावा , आगामी विधानसभा चुनावों में भगवा पार्टी की बनेगी सरकार 


उन्होंने कहा कि पार्टी के किसी भी नेता से आप बात कीजिए वो बताएंगे कि पार्टी किस तरह कमजोर हो रही है. लेकिन, सच को स्वीकार करने कि बजाय लोग अनदेखा कर रहे है. उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि मैं दिल्ली एम्स में इलाज करा रहा था, लेकिन पोस्टमॉर्टम यहां हो रहा था. मुझे तो इस बात पर हैरानी हो रही है कि मेरे बीजेपी के साथ जाने की बात कही जा रही है. लेकिन हकीकत तो यह है कि जेडीयू के जितने बड़े नेता हैं, वो सभी भाजपा के संपर्क में हैं.

मेघालय विधानसभा चुनाव 2023: टीएमसी 24 जनवरी को चुनावी घोषणापत्र जारी करेगी


जनता दल यूनाइटेड के संसदीय बोर्ड के राष्ट्रीय अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा ने जदयू छोडऩे की संभवना से साफ इनकार करते हुए कहते है कि लोग भाजपा नेताओं से हुई मुलाकात का गलत मतलब निकाल रहे हैं. कुशवाहा ने कहा कि वह जदयू में रहकर ही पार्टी को मजबूत करने के लिए काम करेंगे. उपेन्द्र कुशवाहा ने नीतीश कुमार के बयान पर कहा कि मैंने मीडिया में देखा कि नीतीश जी ने क्या बोला. उन्होंने कहा कि मैंने दो-तीन बार पार्टी बदली है, लेकिन जदयू ने भी तो अपनी रणनीति के अनुसार 2-3 बार गठबंधन को बदला है. वहीं बात रही नीतीश जी से बात करने की तो मुझे अगर बात करनी होगी तो एक मिनट लगेगा, मुझे मीडिया से मदद लेने की जरूरत नहीं पड़ेगी.

ऐसे लोगों के घर में हमेशा वास करती हैं मां लक्ष्‍मी, घर में होती है खूब बरकत


गौरतलब है कि इससे पहले मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इशारों ही इशारों में उपेन्द्र कुशवाहा पर निशाना साधा था और कहा था कि उपेंद्र कुशवाहा जी को कह दीजिए कि हमसे बात कर लें किसी की क्या इच्छा है, हम कैसे बता सकते हैं, वो तो पहले भी छोड़कर बाहर 2-3 बार गए थे, फिर खुद आए. अभी सुना है कि उनकी तबीयत खराब है वह दिल्ली गए हैं, इलाज करा रहे हैं. कोई भी किसी से कहीं भी मिलने आ-जा सकता है, अब हालचाल ले लेंगे और उनसे मिल कर पूछेंगे कि क्या बात है. नीतीश कुमार के इसी बयान के बाद उपेन्द्र कुशवाहा ने इशारों में ही सही नीतीश कुमार पर बड़ा हमला बोला है जिसका परिणाम आने वाले समय में क्या होगा यह देखना दिलचस्प होगा.