जिस 5जी वायरलैस नेटवर्क का सारा दुनिया को इंतजार है, उसे लेकर एक भारतीय शोधकर्ता ने चौंकाने वाला दावा किया है। भारतीय मूल के अमरीकी शोधकर्ता नारायण बी. मंडयम का दावा है कि सबसे तेज गति का सैल्युलर नेटवर्क प्रदान करने वाली यह आगामी तकनीक तेज भले हो, लेकिन इससे मौसम संबंधी गलत पूर्वानुमान लगाए जाने की आशंका अधिक है। 

रट्जर्स विश्वविद्यालय के शोधकर्ता और शोध के वरिष्ठ लेखक नारायण बी. मंडयम का कहना है कि हमारा अध्ययन मौसम पूर्वानुमान की त्रुटियों पर 5जी के प्रभाव को निर्धारित करने वाला अपनी तरह का पहला शोध है। अध्ययन के अनुसार, सबसे पहले 2020 में आइईईई 5जी वर्ल्ड फोरम में प्रस्तुत की गई यह पांचवी पीढ़ी की सैल्युलर वायरलैस तकनीक मोबाइल कम्युनिकेशन के लिए उच्च आवृत्तियों का उपयोग करने का एक नया और स्मार्ट तरीका है। यह तकनीक इंटरनेट संचार और दूरसंचार में क्रांति लाएगी। शोधकर्ताओं के अनुसार, इसमें कनेक्शन का समय तेज होता है। ऐसे उपकरणों की संख्या बढ़ाई जा सकती है जो एक ही नेटवर्क से जुड़ सकते हैं और अगले दो से तीन वर्षों में यह तकनीक व्यापक रूप से उपलब्ध होगी।

टीम ने 5जी नेटवर्क में ‘लीकेज’ ढूंढने और उसके प्रभाव की जांच करने के लिए कम्प्यूटर मॉडलिंग का इस्तेमाल किया। उन्होंने 2008 में अमरीका के दक्षिण और मध्य पश्चिमी क्षेत्र में आए ‘सुपर ट्यूजडे टॉरनेडो’ के प्रकोप का पूर्वानुमान लगाने के लिए 5जी नेटवर्क तकनीक का उपयोग किया। टीम ने एक आवृत्ति बैंड या चैनल में एक ट्रांसमीटर से अनपेक्षित विकिरण पैदा की ताकि वे नेटवर्क में हुए लीकेज के प्रभाव का अध्ययन कर सकें। वैज्ञानिकों ने पाया कि 5जी फ्रिक्वेंसी बैंड से सिग्नल संभवत: उपग्रहों पर मौसम सेंसर द्वारा उपयोग किए जाने वाले बैंड में लीक हो सकते हैं जो वायुमंडल में जल वाष्प की मात्रा को मापते हैं और मौसम की भविष्यवाणी और पूर्वानुमान को प्रभावित करते हैं। मौसम विज्ञानी मौसम का पूर्वानुमान करने के लिए आवश्यक डेटा के लिए उपग्रहों पर भरोसा करते हैं। 

कम्प्यूटर मॉडलिंग से शोधकर्ताओं को पता चला कि 5जी रिसाव की शक्ति -15 से -20 डेसीबल वॉट्स (एक डेसिबल वॉट बिजली की एक इकाई है जो रेडियो तरंगों की ताकत का वर्णन करती है) बवंडर के प्रकोप के दौरान (वर्षा के पूर्वानुमान की सटीकता को 0.9 मिलीमीटर) तक को प्रभावित करती है और जमीनी स्तर के पास तापमान (2.34 डिग्री फार्नहाइट तक)। शोध के अनुसार, यदि हम चाहते हैं कि रिसाव 5जी समुदाय द्वारा पसंद किए गए स्तरों पर हो, तो हमें और अधिक विस्तृत मॉडल के साथ-साथ एंटीना प्रौद्योगिकी, स्पेक्ट्रम संसाधनों के गतिशील पुन: संयोजन और बेहतर मौसम पूर्वानुमान एल्गोरिदम पर काम करने की आवश्यकता है।