लखनऊ। उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव (UP assembly Elections) के पांचवें चरण (fifth phase elections) में 12 जिलों की 61 सीटों पर पूर्वनिर्धारित समय के मुताबिक रविवार को सुबह सात बजे से कड़े सुरक्षा इंतजामों के बीच मतदान शुरु हो गया। चुनाव आयोग के अधिकारियों ने कोविड प्रोटोकॉल का पालन सुनिश्चित करते हुए मतदान शुरु होने की जानकारी दी है। उन्होंने बताया कि सायं छह बजे तक मतदाता अपने मतदाधिकार का प्रयोग कर सकेंगे। पांचवें चरण में अमेठी, रायबरेली, चित्रकूट, सुल्तानपुर, प्रतापगढ़, कौशाम्बी, प्रयागराज, बाराबंकी, अयोध्या, बहराइच, श्रावस्ती तथा गोण्डा जिलों की 61 विधानसभा सीटों पर मतदान प्रारंभ हुआ। 

सुबह सात बजे मतदान शुरु होने के बाद कुछ मतदान केन्द्रों पर एक दो मतदाता ही दिखाई पड़े। पांचवे चरण के मतदान में 2.25 करोड़ मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे। इनमें 1.20 करोड़ पुरूष, 1.05 करोड़ महिला तथा 1727 तृतीय लिंग के मतदाता हैं। मतदेय स्थलों पर जो मतदाता शाम छह बजे उपस्थित रहेंगे, उन सभी मतदाताओं द्वारा अपने मताधिकार का प्रयोग किया जा सकेगा। उन्होने बताया कि पांचवे चरण में कुल 61 विधान सभा क्षेत्रों में 693 प्रत्याशी मैदान में हैं, जिनमें से 90 महिला प्रत्याशी हैं। इस चरण के चुनाव में कुल 25,995 मतदेय स्थल तथा 14,030 मतदान केन्द्र बनाये गये हैं। 

स्वतंत्र, पारदर्शी एवं निष्पक्ष मतदान सुनिश्चित कराने के लिये आयोग ने मतदान प्रक्रिया पर पैनी नजर रखने की व्यवस्था की है। इसके तहत 60 सामान्य प्रेक्षक, 11 पुलिस प्रेक्षक तथा 20 व्यय प्रेक्षक तैनात किये गये हैं। इसके अलावा 1941 सेक्टर मजिस्ट्रेट, 250 जोनल मजिस्ट्रेट, 207 स्टैटिक मजिस्ट्रेट तथा 2627 माइक्रो ऑब्जर्वर भी तैनात किये गये हैं। सुरक्षा की ²ष्टि से 23 विधानसभा क्षेत्रों को संवेदनशील घोषित किया गया है। इनमें फूलपुर, मेजा, करछना, इलाहाबाद पश्चिम, इलाहाबाद उत्तर, इलाहाबाद दक्षिण, रामपुर खास, पट्टी, कुंडा, बाबागंज, सिराथू, मंझनपुर, गोसाईगंज, कुर्सी, रामनगर, दरियाबाद, इसौली, लम्भुआ, महसी, पयागपुर और कैसरगंज शामिल हैं। 

इन सीटों के 4547 मतदेय स्थलों को अतिसंवेदनशील श्रेणी में रखा गया है। इस चरण में 120 ङ्क्षपक बूथ भी बनाये गये हैं। इन पर 20 निरीक्षण और 295 महिला पुलिसकर्मी सुरक्षा इंतजामों को सुनिश्चित करने की जिम्मेदारी निभा रही हैं। पांचवे चरण में प्रतापपुर सीट के लिए सबसे अधिक 25, जबकि मिल्कीपुर, पयागपुर, बाराबंकी, जैदपुर, हैदरगढ़, सदर और कादीपुर सीटों के लिए सबसे कम सात-सात उम्मीदवार मैदान में हैं। पांचवें चरण में प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य समेत आधा दर्जन मंत्रियों की भी परीक्षा होगी। मौर्य कौशांबी की सिराथू सीट से चुनाव लड़ रहे हैं जबकि योगी सरकार के कैबिनेट मंत्री राजेंद्र प्रताप सिंह उर्फ मोती सिंह पट्टी सीट से चुनाव मैदान में हैं। कैबिनेट मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह, इलाहबाद पश्चिम सीट से भाजपा प्रत्याशी हैं। 

योगी सरकार में मंत्री नंद गोपाल नंदी इलाहाबाद दक्षिण, समाज कल्याण मंत्री रमापति शास्त्री मनकापुर (सु) सीट से और राज्यमंत्री चंद्रिका प्रसाद उपाध्याय चित्रकूट सदर से चुनाव लड़ रहे हैं। पांचवें चरण वाली विधानसभा सीटों में तिलोई, सलोन (सु), जगदीशपुर (सु), गौरीगंज, अमेठी, इसौली, सुल्तानपुर, सदर, लम्भुआ, कादीपुर (सु), चित्रकूट, मानिकपुर, रामपुर खास, बाबागंज (सु), कुण्डा, विश्वनाथ गंज, प्रतापगढ़, पट्टी, रानीगंज, सिराथू, मंझनपुर (सु), चायल, फाफामऊ, सोरावं (सु), फूलपुर, प्रतापपुर, हण्डिया, मेजा, करछना, इलाहाबाद पश्चिम, इलाहाबाद उत्तर, इलाहाबाद दक्षिण, बारा (सु), कोरावं (सु), कुर्सी, राम नगर, बाराबंकी, जैदपुर (सु), दरियाबाद, रूदौली, हैदरगढ़ (सु), मिल्कीपुर (सु), बीकापुर, अयोध्या, गोसाईगंज, बलहा (सु), नानपारा, मटेरा, महसी, बहराइच, पयागपुर, कैसरगंज, भिनगा, श्रावस्ती, मेहनौन, गोण्डा, कटरा बाजार, कर्नलगंज, तरबगंज, मनकापुर (सु) एवं गौरा विधान सभा सीट शामिल हैं।